"उर्स" के अवतरणों में अंतर  

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
छो (Text replace - ")</ref" to "</ref")
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
* उर्स [[मुसलमान|मुसलमानों]] के मतानुसार किसी फ़कीर, महात्मा, पीर आदि के मरने के दिन का कृत्य या उत्सव होता है।  
+
'''उर्स''' से अभिप्राय है- "किसी फ़कीर, महात्मा, पीर आदि के मरने के दिन का कृत्य या उत्सव"। मुस्लिम समुदाय में यह दिन बहुत ही पाक और पवित्र माना जाता है। इस दिन संबंधित फ़कीर या पीर की दरगाह की साफ-सफाई करके उसे सुन्दरता के साथ सजाया जाता है। मुस्लिम समुदाय के लोग नमाज़ पढ़ने के बाद दरगाह पर चिराग आदि जलाते और चादरें चढ़ाते हैं। उर्स के दिन दरगाह में [[संगीत]] (क़व्वाली) आदि का कार्यक्रम रखा जाता है। [[भारत]] में [[अजमेर]] और पिरानकलियर के उर्स बहुत प्रसिद्ध हैं, जहाँ देश भर के कव्वाल तथा गायक-गायिकाएँ आती हैं और अपने संगीत से उपस्थित जनसमुदाय का मनोरंजन करती हैं।
* इस दिन संबंधित फ़कीर या पीर की दरगाह की सफाई करके उसे सजाया जाता है और मुसलमान लोग नमाज़ पढ़ने के बाद उस पर चिराग जलाते या चादरें चढ़ाते हैं।  
+
==अजमेर उर्स==
* तत्पश्चात्‌ वहाँ [[संगीत]]<ref>क़व्वाली</ref> का कार्यक्रम रखा जाता है। [[भारत]] में [[अजमेर]] और पिरानकलियर के उर्स बहुत प्रसिद्ध हैं जहाँ देश भर के कव्वाल तथा गायक-गायिकाएँ आती हैं और अपने संगीत से उपस्थित जनसमुदाय का मनोरंजन करती हैं।
+
दक्षिण एशिया में सामान्यत: 'उर्स' किसी सूफ़ी संत की पुण्य तिथि पर उसकी दरगाह पर वार्षिक रूप से आयोजित किये जाने वाले 'उत्सव' को कहा जाता है। दक्षिण एशियाई सूफ़ी संत मुख्य रूप से 'चिश्तिया' कहे जाते हैं। ये सूफ़ी संत परमेश्वर के प्रेमी समझे जाते हैं। सूफ़ी संत की मृत्यु को 'विसाल' पुकारा जाता है, जिसका अर्थ है- "प्रेमियों का मिलाप"। [[भारत]] के [[राजस्थान]] में [[अजमेर]] में [[ख़्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती]] की दरगाह में होने वाला 'अजमेर उर्स' विश्व प्रसिद्ध है। यह उर्स [[हिन्दू]]-[[मुस्लिम]] एकता और विश्वशांति का प्रतीक है। यह उर्स आपसी भाईचारे की सबसे बड़ी पहचान है। महान सूफ़ी संत हजरत ख़्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर चढ़ाए जाने वाले [[फूल]] [[पुष्कर]] से आते हैं तो पुष्कर पर चढ़ाई जाने वाली [[पूजा]] सामग्री की खीलें दरगाह ख़्वाजा साहब के बाज़ार से ही जाती हैं। हिन्दू-मुस्लिम एकता और आपसी भाईचारे की इससे अधिक अच्छी मिसाल और कोई नहीं हो सकती है। अजमेर में कभी भी हिन्दू-मुस्लिम तनाव नहीं देखा गया। यहाँ के बहुत-से गैर मुस्लिम [[रमजान]] के मास में दरगाह में आकर रोजा खोलते हैं।
 +
 
  
{{प्रचार}}
 
 
{{लेख प्रगति|आधार= |प्रारम्भिक=प्रारम्भिक1 |माध्यमिक= |पूर्णता= |शोध= }}
 
{{लेख प्रगति|आधार= |प्रारम्भिक=प्रारम्भिक1 |माध्यमिक= |पूर्णता= |शोध= }}
{{संदर्भ ग्रंथ}}
 
 
==टीका टिप्पणी और संदर्भ==
 
==टीका टिप्पणी और संदर्भ==
 
<references/>
 
<references/>
पंक्ति 12: पंक्ति 11:
 
[[Category:इस्लाम धर्म]][[Category:इस्लाम धर्म कोश]]
 
[[Category:इस्लाम धर्म]][[Category:इस्लाम धर्म कोश]]
 
__INDEX__
 
__INDEX__
 +
__NOTOC__

15:56, 12 मई 2013 का अवतरण

उर्स से अभिप्राय है- "किसी फ़कीर, महात्मा, पीर आदि के मरने के दिन का कृत्य या उत्सव"। मुस्लिम समुदाय में यह दिन बहुत ही पाक और पवित्र माना जाता है। इस दिन संबंधित फ़कीर या पीर की दरगाह की साफ-सफाई करके उसे सुन्दरता के साथ सजाया जाता है। मुस्लिम समुदाय के लोग नमाज़ पढ़ने के बाद दरगाह पर चिराग आदि जलाते और चादरें चढ़ाते हैं। उर्स के दिन दरगाह में संगीत (क़व्वाली) आदि का कार्यक्रम रखा जाता है। भारत में अजमेर और पिरानकलियर के उर्स बहुत प्रसिद्ध हैं, जहाँ देश भर के कव्वाल तथा गायक-गायिकाएँ आती हैं और अपने संगीत से उपस्थित जनसमुदाय का मनोरंजन करती हैं।

अजमेर उर्स

दक्षिण एशिया में सामान्यत: 'उर्स' किसी सूफ़ी संत की पुण्य तिथि पर उसकी दरगाह पर वार्षिक रूप से आयोजित किये जाने वाले 'उत्सव' को कहा जाता है। दक्षिण एशियाई सूफ़ी संत मुख्य रूप से 'चिश्तिया' कहे जाते हैं। ये सूफ़ी संत परमेश्वर के प्रेमी समझे जाते हैं। सूफ़ी संत की मृत्यु को 'विसाल' पुकारा जाता है, जिसका अर्थ है- "प्रेमियों का मिलाप"। भारत के राजस्थान में अजमेर में ख़्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में होने वाला 'अजमेर उर्स' विश्व प्रसिद्ध है। यह उर्स हिन्दू-मुस्लिम एकता और विश्वशांति का प्रतीक है। यह उर्स आपसी भाईचारे की सबसे बड़ी पहचान है। महान सूफ़ी संत हजरत ख़्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर चढ़ाए जाने वाले फूल पुष्कर से आते हैं तो पुष्कर पर चढ़ाई जाने वाली पूजा सामग्री की खीलें दरगाह ख़्वाजा साहब के बाज़ार से ही जाती हैं। हिन्दू-मुस्लिम एकता और आपसी भाईचारे की इससे अधिक अच्छी मिसाल और कोई नहीं हो सकती है। अजमेर में कभी भी हिन्दू-मुस्लिम तनाव नहीं देखा गया। यहाँ के बहुत-से गैर मुस्लिम रमजान के मास में दरगाह में आकर रोजा खोलते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=उर्स&oldid=329698" से लिया गया