अंटार्कटिका महाद्वीप  

अंटार्कटिका महाद्वीप

अंटार्कटिका महाद्वीप सातों महाद्वीपों में से सबसे ठंडा महाद्वीप है। अंटार्कटिका पृथ्वी का दक्षिणतम महाद्वीप है, जिसमें दक्षिणी ध्रुव है। यह चारों ओर से दक्षिणी महासागर से घिरा हुआ है। अपने 140 लाख वर्ग किलोमीटर (54 लाख वर्ग मील) क्षेत्रफल के साथ यह, एशिया, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका और दक्षिणी अमेरिका के बाद, पृथ्वी का पांचवां सबसे बड़ा महाद्वीप है, अंटार्कटिका का 98% भाग औसतन 1.6 किलोमीटर मोटी बर्फ़ से आच्छादित है।

विश्व का सबसे ठंडा महाद्वीप

अंटार्कटिका, विश्व का सबसे ठंडा, शुष्क और तेज हवाओं वाला महाद्वीप है। अंटार्कटिका को एक बर्फीला रेगिस्तान माना जाता है। यहाँ का कोई स्थायी निवासी नहीं है। वर्ष भर में लगभग 1,000 से 5,000 व्यक्ति विभिन्न अनुसंधान केन्द्रों से, जो महाद्वीप पर फैले हैं, पर उपस्थित रहते हैं। यहाँ केवल पेंगुइन, सील, निमेटोड, टार्डीग्रेड, पिस्सू, विभिन्न प्रकार के शैवाल और सूक्ष्मजीव के अलावा टुंड्रा वनस्पति भी पायी जाती है।

ठंडा रेगिस्तान

अंटार्कटिका साल के लगभग सभी महीनों में दुनिया के सबसे अधिक तूफ़ानी समुद्रों और बर्फ़ के बड़े-बड़े तैरते पहाड़ों से घिरा रहता है। अंटार्कटिका में बहुत कम बारिश होती है, इसलिए इसे 'ठंडा रेगिस्तान' माना जाता है। यहां की औसत वार्षिक वृष्टि मात्र 200 मिलीमीटर है। अंटार्कटिका की बर्फ़ की औसत मोटाई 1.6 किलोमीटर है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अंटार्कटिका_महाद्वीप&oldid=319110" से लिया गया