अगस्त्यदर्शन पूजन  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • जब सूर्य कन्या राशि के मध्य में रहता है उस समय अगस्त्य नक्षत्र को देखना और रात्रि में अगस्त्यदर्शन पूजन करना चाहिए।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. नीलमतपुराण (पृष्ठ 76–77, श्लोक 934—939

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अगस्त्यदर्शन_पूजन&oldid=224872" से लिया गया