अघ  

अघ श्रीकृष्ण के मामा और मथुरा नरेश कंस का सेनापति था। वह रूप बदलकर कृष्ण, उनके साथी तथा पशुओं को मारने के प्रयोजन हेतु वृन्दावन गया था।[1]

  • अघ के मुख को भू-भाग समझ कर सब ग्वालवाल उसके मुख में प्रवेश कर गये थे।
  • श्रीकृष्ण ने अघ का गला रोध दिया और उसका वध किया।
  • अघ 'अघासुर' नाम से विख्यात था। श्रीकृष्ण द्वारा वध किये जाने से उसे मोक्ष प्राप्त हुआ।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणाप्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, आज भवन, संत कबीर मार्ग, वाराणसी-221001 |पृष्ठ संख्या: 12 |
  2. भागवतपुराण 10.12. 13-38; 13.4; 14.60.

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अघ&oldid=303502" से लिया गया