अड़्गारक चतुर्थी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • मंगलवार को चौथ, 8 बार या 4 बार या जीवन भर के लिए, मंगल की पूजा, शूद्र केवल मंगल का स्मरण करते हैं।[1]
  • अहल्याकामधेनु (पाण्डुलिपि) में ध्यान यह है—'अवन्ती–समुत्थं सुमेषा–सनस्थं धरानन्दनं रक्तवस्त्रं सभीड़े।'


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मन्त्र (ऋग्वेदसंहिता 8|44|16), मत्स्य पुराण (72|1–45), भविष्योत्तर पुराण (31|1–62), वर्षक्रियाकौमुदी (32–33), व्रतराज (188–191), कृत्यकल्पतरु, व्रतखण्ड (80–81), हेमाद्रि, व्रतखण्ड (1, 518–519)।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अड़्गारक_चतुर्थी&oldid=324652" से लिया गया