अनंतविजय  

अनंतविजय महाभारत में धर्मराज युधिष्ठिर के शंख का नाम था। महाभारत युद्ध के समय उन्होंने रणभूमि कुरुक्षेत्र में इसे बजाया था। इस शंख कि ध्वनि की ये विशेषता मानी जाती है कि इससे शत्रु सेना घबराती है और स्वयं कि सेना का उत्साह बढ़ता है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी

  1. महाभारत भीष्म पर्व 25; 1-22

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनंतविजय&oldid=546482" से लिया गया