अनङ्‌गपवित्रारोपण  


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि, व्रतखण्ड (2, 442); पुरुषार्थचिन्तामणि (238)।

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनङ्‌गपवित्रारोपण&oldid=178755" से लिया गया