अनन्द विक्रम संवत  

  • अनन्द विक्रम संवत् भारत में प्रचलित अनेक संवतों में से एक है।
  • अनन्द का अर्थ है नौ (नौ नन्दों) रहित 100 में से 9 घटाने पर 91 बचते हैं। अर्थात् ईसवी पूर्व 58-57 में आरम्भ होने वाले सानन्द विक्रम संवत् का आरम्भ ईसवी सन् 33 मानना चाहिए।
  • इसका प्रयोग पृथ्वीराज रासो के कवि चंदबरदाई ने, जो मुसलमानों के आक्रमण (1192 ई.) के समय दिल्ली नरेश पृथ्वीराज चौहान का राज कवि था, किया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनन्द_विक्रम_संवत&oldid=285781" से लिया गया