अनुह्लाद  

अनुह्लाद कयाधु और हिरण्यकशिपु के पुत्र का नाम था। उसका विवाह सूर्म्या से हुआ था। अनुह्लाद का राज्य तीसरे पाताल (वितल) में था।[1]

  • हिरण्यकशिपु पाँच पुत्रों का पिता था। उसके चार अन्य पुत्रों के नाम थे- प्रह्लाद, संह्लाद, शिवि और वाष्कल।
  • अनुह्लाद दो पुत्रों- 'वाष्कल' और 'महिष' का पिता बना था।[2]
  • 'सिनीवाली' भी अनुह्लाद के पुत्र कहे गये हैं, जिनसे 'हालाहलगण' उत्पन्न हुए थे।[3]
  • इसकी पुत्री भद्रा मणिवरा रजतनाभ नामक यक्ष को ब्याही गई थी।[4]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणाप्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, आज भवन, संत कबीर मार्ग, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 22 |
  2. भागवतपुराण 6.18.13,16; ब्रह्मांडपुराण 3.5.33
  3. मत्स्यपुराण 6.9; वायुपुराण 67.70.75; विष्णुपुराण 1.15.142
  4. ब्रह्मांडपुराण, 2.20.26; 3.7.119; वायुपुराण 50.25

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनुह्लाद&oldid=521365" से लिया गया