अनौपम्या  

अनौपम्या बाणासुर की पत्री का नाम था।[1] उसकी सास तथा ननद ने उसका तिरस्कार कर दिया था, तब देवर्षि नारद ने उसे एक मंत्र की दीक्षा प्रदान की, जिससे वह सबको प्रसन्न करने में सफल हो सकी।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणाप्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, आज भवन, संत कबीर मार्ग, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 23 |
  2. मत्स्यपुराण 187.25-52

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनौपम्या&oldid=304257" से लिया गया