अपान्तरतमा  

अपान्तरतमा हिन्दू पौराणिक ग्रंथ महाभारत और मान्यताओं के अनुसार नारायण के भो: शब्द से उत्पन्न एक महर्षि थे। एक महात्मा (सिद्ध) का नाम जो माया से आवृत होने के कारण भगवान विष्णु की माया का रहस्य समझने में असमर्थ रहे।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

महाभारत शब्दकोश |लेखक: एस. पी. परमहंस |प्रकाशक: दिल्ली पुस्तक सदन, दिल्ली |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 13 |

  1. भाग. 6.15.12, 9.4.57

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अपान्तरतमा&oldid=546921" से लिया गया