अमरसिंह द्वितीय  

अमरसिंह द्वितीय (1698 - 1710 ई.) मेवाड़ के राणा थे। इनके समय मेवाड़ की प्रतिष्ठा बढ़ी और इन्होंने कृषि पर ध्यान देकर किसानों को सम्पन्न बना दिया। इनके निधन से मेवाड़ और राजस्थान की बड़ी क्षति हुई।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. सिसोदिया राजवंश एवं मेवाड़ (हिंदी) अंतर्राष्ट्रीय क्षत्रिय महासभा। अभिगमन तिथि: 6 जनवरी, 2013।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अमरसिंह_द्वितीय&oldid=309804" से लिया गया