अमोघवर्ष तृतीय  

अमोघवर्ष तृतीय अथवा 'वड्डिग' राष्ट्रकूट शासक अमोघवर्ष द्वितीय के पौत्र का दूसरा पुत्र था।

  • वह गोविन्द चतुर्थ के बाद 934 ई. में राष्ट्रकूट वंश का राजा बना और पाँच वर्ष (934-939 ई.) राज्य किया।
  • उसके शासन काल में दक्षिण के राष्ट्रकूटों और सुदूर दक्षिण के चोल राजाओं के मध्य शत्रुता आरम्भ हो गयी।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 15 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अमोघवर्ष_तृतीय&oldid=517066" से लिया गया