अरण्य द्वादशी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की षष्ठी को अरण्य द्वादशी व्रत किया जाता है।
  • राजमार्तण्ड[1] में बताया गया है कि नारियाँ हाथ में पंखे एवं तीर लेकर अरण्य (वन) में घूमती हैं।
  • गदाधरपति[2] में इसे स्कन्दषष्ठी भी कहा गया है।
  • तिथिव्रत; विन्ध्यवासिनी एवं स्कन्द की पूजा करनी चाहिये।[3]
  • ऐसी मान्यता है कि अरण्यद्वादशी का व्रत करने वाले अपने बच्चों के स्वास्थ्य के लिए कमल-नाल, कन्दमूल एवं फलों का सेवन करते हैं।

अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. राजमार्तण्ड (1396
  2. कालसार, 83
  3. कृत्यरत्नाकर (185); वर्षक्रियाकौमुदी (279); कृत्यतत्त्व (430-431
"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अरण्य_द्वादशी&oldid=188257" से लिया गया