अरविन्द सवैया  

अरविन्द सवैया आठ सगण और लघु के योग से छन्द बनता है। 12, 13 वर्णों पर यति होती है और चारों चरणों में ललितान्त्यानुप्रास होता है।

  • "अधिरात अँध्यार को मेघ छटा, घुमड़ी छुटि बिज्जु छटा चहुँ ओर।"[1]
  • "कुछ और नहीं युग लोचनाँ में, प्रतिबिम्बित है अनुराग अमन्द।"[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

धीरेंद्र, वर्मा “भाग- 1 पर आधारित”, हिंदी साहित्य कोश (हिंदी), 742।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. देव : शब्द रसायन, पृष्ठ 10, 154
  2. चन्द्राकर

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अरविन्द_सवैया&oldid=238264" से लिया गया