अर्धोदय व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • अर्धोदय व्रत एक करोड़ सूर्य ग्रहणों की पवित्रता के समान है तथा बहुत कम किया जाता है।
  • पश्चात्कालीन निबन्धों[1] ने महाभारत से उद्धरण दिया है- जब पौष या माघ में श्रवण-नक्षत्र एवं व्यतिपातयोग के साथ अमावास्या होती है तो उसे अर्धोदय एवं व्रतार्क कहा जाता है।
  • भट्ट नारायण के प्रयाग सेतु के मत से अमान्त गणना के अनुसार अर्धोदय व्रत पौष में तथा पूर्णिमान्त गणना के अनुसार माघ में होता है।[2]
  • अर्धोदय में प्रयाग में प्रातः स्नान महापुण्यकारक होता है, किन्तु ऐसा आया है कि अर्धोदय में सभी नदियाँ गंगा के समान हो जाती हैं।
  • इस व्रत के देव तीन हैं—ब्रह्मा, विष्णु एवं महेश और वे उसी क्रम में पूजित होते हैं।
  • पौराणिक मन्त्रों एवं तीन वैदिक मन्त्रों के साथ[3] घृत की आहुति (अग्नि) में दी जाती है।
  • अन्त में गायों एवं धन का दान होता है।
  • यह द्रष्टव्य है कि प्रति पाँचवें वर्ष में हर्षवर्धन द्वारा प्रयाग में दान करना अर्धोदय व्रत नहीं था।


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. तिथितत्त्व 187, कृत्यसारसमुच्चय 30, निर्णयसिन्धु 211, स्मृतिकौस्तुभ 442-445, पुरुषार्थचिन्तामणि 316
  2. हेमाद्रि व्रतखण्ड (2, 246-252); तिथितत्त्व (187); वृतार्क (348); पुरुषार्थचिन्तामणि (316
  3. ऋग्वेद 10|121|10, 1|22|17 एवं 7|59|12
"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अर्धोदय_व्रत&oldid=188264" से लिया गया