अवधूतेश्वर  

शिव
Shiva

अवधूतेश्वर हिन्दू धर्म के प्रमुख देव शिव का एक नाम है।

  • शिव पुराण के अनुसार एक बार बृहस्पति और इन्द्र शिव के दर्शन के लिए चले। शिव ने उनकी परीक्षा के लिए भयानक रूप धारण कर उसका मार्ग अवरुद्ध कर दिया। इस पर इन्द्र ने अपना वज्र प्रहार किया जिसे शिव ने रोक लिया। फलस्वरूप अग्नि की ज्वाला प्रस्फुटित हो गयी। यह अग्नि बृहस्पति के प्रार्थना करने पर शांति हुई।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पुस्तक- हिन्दी साहित्य कोश भाग-2 | सम्पादक- धीरेंद्र वर्मा (प्रधान) | प्रकाशन- ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी | पृष्ठ संख्या- 27

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अवधूतेश्वर&oldid=527694" से लिया गया