अविकारी शब्द  

  • वह शब्द जो लिंग, वचन, कारक आदि से कभी विकृत नहीं होते हैं अविकारी शब्द होते हैं।
  • इनको 'अव्यय' भी कहा जाता है।
  • जैसे- वहाँ, जहाँ आदि।

क्रियाविशेषण

  • क्रियाविशेषण वह अव्यय शब्द है जो क्रिया की किसी विशेषता को बताता है।
  • जैसे- मानसी धीरे-धीरे चल रही है।

सम्बन्धबोधक

  • सम्बन्धबोधक सार्थक शब्दों के आठ भेदों में एक भेद है।
  • व्याकरण में सम्बन्धबोधक एक अविकारी शब्द है।

समुच्यबोधक

  • जो अविकारी शब्द दो शब्दों, दो वाक्यों अथवा दो वाक्य खण्डों को जोड़ते हैं, उन्हें समुच्यबोधक कहते हैं।

विस्मयादिबोधक

  • जो अविकारी शब्द हर्ष, शोक, आश्चर्य, घृणा, क्रोध, तिरस्कार आदि भावों का बोध कराते हैं, उन्हें विस्मयादिबोधक कहते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अविकारी_शब्द&oldid=226604" से लिया गया