अविस्थल  

अविस्थल महाभारत[1] में उल्लिखित उन पाँच स्थानों में से एक है, जिसे युधिष्ठिर ने दुर्योधन से पाण्डवों के लिए मांगा था।

  • युधिष्ठिर ने यह संदेश दुर्योधन के पास संजय द्वारा भिजवाया था-
'अविस्थलंवृकस्थलं माकन्दीं वारणावतम्, अवसानं भवत्वत्र किंचिदेकं च पंचमम्'

अर्थात् "हमें केवल 'अविस्थल', 'वृकस्थल', 'माकंदी', 'वारणावत' तथा पाँचवाँ कोई भी ग्राम दे दे।

  • वृकस्थल या वृकप्रस्थ[2]माकन्दी और वारणावत[3] हस्तिनापुर के निकट ही स्थित थे।
  • अविस्थल भी इनके निकट ही होगा, यद्यपि इसका ठीक-ठीक अभिज्ञान संदिग्ध है।
  • कुछ विद्वानों के अनुसार अविस्थल का शुद्ध पाठ 'कपिस्थल' या 'कपिष्ठल' होना चाहिए।
  • कपिस्थल वर्तमान 'कैथल'[4] है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


  1. उद्योग. 31-19
  2. वर्तमान बागपत, ज़िला मेरठ, उ. प्र.
  3. वर्तमान बरनावा, ज़िला मेरठ
  4. ज़िला करनाल, पंजाब

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 48| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अविस्थल&oldid=627300" से लिया गया