अवैधव्यशुक्लैकादशी  

 

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 1, 1151, इसमें विष्णुधर्मोत्तर का केवल एक श्लोक है)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अवैधव्यशुक्लैकादशी&oldid=138353" से लिया गया