अशून्यशयन द्वितीया  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • श्रावण के उपरान्त चार मासों की कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि को अशून्यशयनव्रत किया जाता है।
  • इस व्रत में लक्ष्मी एवं हरि की पूजा करनी चाहिये।[1]
  • इस व्रत से नारियों को अवैधव्य एवं पुरुषों को अवियोग की अवस्था प्राप्त होती है।
  • हेमाद्रि व्रत खण्ड [2] में आया है-: लक्षम्या न शून्यं वरद यथा ते शयनं सदा। शय्या समाप्यशून्यास्तु तथात्र मधुसूदन।[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णुधर्मोत्तर पुराण (1|145|6-20 एवं 3|132|1-12); वामन पुराण (16|16-29), [[अग्निपुराण (177|3-12), भविष्योत्तर पुराण (1|20|4-28); कृत्यकल्पतरु (व्रत0 41-44), हेमाद्रि व्रत खण्ड (1, 366-371
  2. हेमाद्रि व्रत खण्ड 1, 373
  3. कृत्यकल्पतरु (पृ0 228

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अशून्यशयन_द्वितीया&oldid=188278" से लिया गया