अशोक अष्टमी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • चैत्र शुक्ल पक्ष की अष्टमी को अशोकाष्टमी व्रत रखा जाता है।
  • यदि बुध हो और पुनर्वसु नक्षत्र हो तो विशेष पुण्य होता है।
  • अशोकाष्टमी के दिन अशोक के पुष्पों से दुर्गा की पूजा की जाती है।
  • अशोक की आठ कलियों से युक्त जल पीना तथा त्वामशोक हराभीष्टं मधुमास-समुद्भवम्। पिबामि शोकसन्तप्तो मामशोक सदा कुरु।। के मन्त्र का जाप करना चाहिये।
  • इस मन्त्र के साथ अशोक के वृक्ष की पूजा करनी चाहिये। [1]
  • कालविवेक [2], कृत्यरत्नाकर [3], कृत्यतत्त्व [4] आदि निबन्धों में आया है कि चैत्र शुक्ल पक्ष की अष्टमी को सभी तीर्थ एवं नदियाँ ब्रह्मपुत्र में आ जाती हैं।
  • उस दिन के स्नान से, जब कि बुधवार पुनर्वसु नक्षत्र में पड़ता है, बाजपेय के समान फल मिलता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. काल-विवेक (422); हेमाद्रि (काल, 626), हेमाद्रि (व्रत खण्ड 1, 862-63 एवं 875-876); कृत्यरत्नाकर (126-127); राजमार्तण्ड (1379-1380); पुरुषार्थचिन्तामणि (109); स्मृतिकौस्तुभ (94
  2. कालविवेक 422
  3. कृत्यरत्नाकर 126
  4. कृत्यतत्त्व 463
"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अशोक_अष्टमी&oldid=188279" से लिया गया