अश्मक  

Disamb2.jpg अश्मक एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- अश्मक (बहुविकल्पी)

अश्मक सौदास के क्षेत्रज पुत्र का नाम था। सौदास, जो कल्माषपाद और मित्रसह के नाम से विख्यात थे, उनकी रानी मदयन्ती के गर्भ से वशिष्ठ द्वारा अश्मक का जन्म हुआ था।[1]

  • सात वर्षों तक अश्मक अपनी माता के गर्भ में रहा, तब वशिष्ठ ने रानी के पेट पर पत्थर का प्रहार किया और यह उत्पन्न हुआ।
  • अश्मक 'मूलक' का पिता था।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणाप्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, आज भवन, संत कबीर मार्ग, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 36 |
  2. भागवतपुराण 9.9.39,40; ब्रह्मांडपुराण 3.63.177; वायुपुराण 88.177; विष्णुपुराण 4.4.72,73

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अश्मक&oldid=304447" से लिया गया