अष्टमी  

  • सूर्य से चन्द्र का अन्तर जब 85° से 96° तक होता है, तब शुक्ल पक्ष की अष्टमी और 265° से 276° तक कृष्ण अष्टमी रहती है।
  • अष्टमी ‘अठमी, अट्ठमी तथा आठें’ भी कहलाती है।
  • इस चन्द्र तिथि के स्वामी भगवान शिव हैं। यह ‘जया’ संज्ञक तिथि है, जिसका अर्थ है- जीत कराने वाली। अष्टमी का विशेष नाम ‘कलावती’ है।
  • मंगलवार को पड़ने वाली अष्टमी सिद्धिदा और बुधवार को पड़ने वाली मृत्युदा होती है।
  • चैत्र मास में अष्टमी तिथि शून्य होती है।
  • अष्टमी की दिशा ईशान है।
  • कृष्ण पक्ष की अष्टमी में शिव पूजन शुभ होती है। शुक्ल पक्ष की अष्टमी में शिव पूजन निषिद्ध है।
  • चन्द्रमा की इस आठवीं कला का पान 'अजैकपात' नामक देवता करते हैं।
  • विशेष – अष्टमी तिथि शनि ग्रह की जन्म तिथि है। इसलिये शुभ कार्यों में वर्जित रहती है।

संग्रामयोग्याखिलवास्तुकर्म नृत्यप्रमोदाखिललेखनानि।
स्त्रीरत्नकार्याखिलभूषणानि कार्याणि महेशतिथ्याम्।।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अष्टमी&oldid=469057" से लिया गया