अहिरावण  

अहिरावण / महिरावण रावण के पाताल निवासी दो मित्र जो रावण के कहने से सुबेल पर्वत की एक शिला पर राम और लक्ष्मण को सोते देख, वध करने के लिए शिलासहित उठाकर ले गए। हनुमान पीछा करते हुए निकुंभिला नगर पहुँचे जहाँ उन्हें उनका पुत्र मकरध्वज (स्नान के समय हनुमान का एक स्वेदबिंदु मछली द्वारा पी जाने से उसके गर्भ से उत्पन्न) मिला जिसने उन्हें बताया कि प्रात:काल कामाक्षीदेवी के मंदिर में राम और लक्ष्मण का वध होगा।

  • राक्षस राम और लक्ष्मण को वधार्थ लेकर मंदिर पहुँचे तब हनुमान ने देवी के छद्मस्वर में कहा कि पूजा आदि मंदिर के झरोखे से बाहर से की जाए। राक्षसों ने वैसा ही किया तथा राम और लक्ष्मण को भी झरोखे से भीतर छोड़ दिया।
  • इसके बाद तुमुल युद्ध हुआ किंतु अहिरावण अथवा महिरावण के रक्त से नए-नए अहिरावण अथवा महिरावण पैदा होने लगे।
  • हनुमान को अहिरावण की पत्नी ने बताया कि वह नाग कन्या है तथा बलपूर्वक यहाँ लाई गई है।
  • महिरावण की भी उस पर कुदृष्टि है। यदि राम उससे विवाह करें तो वह इन दोनों राक्षसों को नष्ट करने का उपाय बता सकती है। हनुमान ने उत्तर दिया कि यदि राम के बोझ से उसका पलंग न टूटा तो वह ब्याह कर लेंगे। नाग कन्या ने बताया कि एक बार कुछ लड़के भौंरों को पकड़कर काँटे चुभा रहे थे तब इन दोनों ने भौंरों को बचाया था। वे ही भ्रमर अमृतबिंदु से इन दोनों को जीवित रखते हैं, अत: पहले भौंरों को मार डालो। हनुमान ने बहुत भ्रमरों को मार डाला। एक भ्रमर जब शरणागत हुआ तो उससे हनुमान ने अहिपत्नी का पलंग अंदर से खोखला करवाया। तब तक राम के बाण से सब राक्षसों का वध हो चुका था। हनुमान से सब बात सुनकर राम नाग कन्या के आवास में गए तथा पलंग स्पर्श करते ही, पोला हो जाने के कारण टूट गया। हनुमान की चतुराई से राम को नागकन्या से विवाह नहीं करना पड़ा। उसने अग्नि में जलकर शरीर छोड़ा।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अहिरावण (हिंदी) भारतखोज। अभिगमन तिथि: 09 नवंबर, 2016।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अहिरावण&oldid=575016" से लिया गया