आदित्यवार व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत मार्गशीर्ष से आरंभ करके एक वर्ष तक करना चाहिए।
  • आदित्यवारव्रत में सूर्य की पूजा करनी चाहिए।
  • इस व्रत में प्रत्येक मास सूर्य के अन्य नाम से विभिन्न फलों का दान करना चाहिए।
  • मार्गशीर्ष में मित्र नाम एवं नारियल फल, पौष में विष्णु एवं बीजपूर फल।
  • इसके करने से कुष्ठ जैसे रोग भी दूर हो जाते हैं।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आदित्यवार_व्रत&oldid=138504" से लिया गया