आदित्यशयन  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत रविवार एवं हस्त नक्षत्र के साथ सप्तमी को या जब रविवार के साथ सप्तमी को सूर्य की संक्रान्ति हो उस दिन करना चाहिए।
  • आदित्यशयन व्रत में उमा एवं शिव (सूर्य से शिव भिन्न नहीं हैं) की प्रतिमाओं की पूजा और सूर्य को नमस्कार करना चाहिए।
  • सूर्य के पैरों से लेकर विभिन्न अंगों को हस्त से लेकर अन्य नक्षत्रों के समान मानना चाहिए।
  • इस दिन पाँच चद्दरों एवं तकियों तथा एक गाय के साथ एक सुन्दर पलंग का दान करना चाहिए।[1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मत्स्यपुराण (55|2-33), पद्म पुराण (5|24-64-96)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आदित्यशयन&oldid=138506" से लिया गया