आदित्यशान्ति व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत हस्त नक्षत्र के साथ रविवार के दिन करना चाहिए।
  • आदित्यशान्ति व्रत में अर्क की समिधा (समिधा की संख्या 108 या 28 हो) के साथ सूर्य की प्रतिमा की पूजा करनी चाहिए।
  • इस व्रत में मधु एवं घृत या दही एवं घृत से युक्त समिधा से सात बार होम करना चाहिए।[1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि व्रतखण्ड (2, 537-38-।

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आदित्यशान्ति_व्रत&oldid=188331" से लिया गया