आदित्य तीर्थ  

आदित्य तीर्थ महाभारत काल में सरस्वती नदी के तट पर स्थित एक तीर्थ, जिसकी यात्रा बलराम जी ने अन्य तीर्थों के साथ की थी-

'वनमाली ततो हृष्ट: स्तूयमानो महर्षिभि:,
तस्मादादित्यतीर्थं च जगाम कमलेक्ण:'[1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 62| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आदित्य_तीर्थ&oldid=627398" से लिया गया