इंद्रद्युम्न  

Disamb2.jpg इंद्रद्युम्न एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- इंद्रद्युम्न (बहुविकल्पी)

इंद्रद्युम्न पांड्य देश का राजा था।

एक बार इंद्रद्युम्न ध्यान लगाए बैठा था। इतने में अगस्त्य ऋषि वहां आए। राजा ने उन्हें देखा नहीं था। इस पर ऋषि क्रोधित हो गए। उसे श्राप दिया कि 'तू मत्त हो गया है, इसलिए मदमस्त हाथी बन जा।' राजा ने बहुत विनय की तो ऋषि ने बताया कि जब तुझे पानी के अंदर मगर पकड़ेगा तो उस समय विष्णु तेरा उद्धार करेंगे। प्रसिद्ध गज-ग्राह युद्ध में मुक्ति पाने वाला यही इंद्रद्युम्न राजा था।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 87 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=इंद्रद्युम्न&oldid=627466" से लिया गया