ईश्वर (विश्वेदेवा)  

Disamb2.jpg ईश्वर एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- ईश्वर (बहुविकल्पी)

ईश्वर हिन्दू मान्यताओं और पौराणिक महाकाव्य महाभारत के उल्लेखानुसार एक विश्वेदेवा[1] हैं।

  • कश्यप से सुरभि में उत्पन्न 11 रुद्रों में से एक थे, जिनका निवास-स्थान ब्रह्मलोक के सामने शिवपुर में है।
  • यह त्रिमूर्ति के अधिपति हैं तथा सूर्य के अधिदेवता।
  • ईश्वर सारे संसार का अधिपति है। इनके 10 प्रधान गुण बताये गये हैं-
  1. गुण-ज्ञान
  2. वैराग्य
  3. ऐश्वर्य
  4. तप
  5. सत्य
  6. धैर्य
  7. क्षमा
  8. द्रष्ट्रत्व
  9. अपना सबसे सम्बन्ध
  10. सर्वाधारता


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

महाभारत शब्दकोश |लेखक: एस. पी. परमहंस |प्रकाशक: दिल्ली पुस्तक सदन, दिल्ली |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 21 |

  1. महेश्वर और शंकर

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ईश्वर_(विश्वेदेवा)&oldid=548645" से लिया गया