उग्रतप  

उग्रतप एक प्राचीन ऋषि थे। ये भगवान श्रीकृष्ण के भक्त थे। इन्होंने कृष्ण की अनन्यभाव से उत्कृष्ट सेवा की थी।[1]

  • ऋषि उग्रतप ने श्रीकृष्ण के उस श्रृंगारमय रूप की आराधना की थी, जिसमें कृष्ण गोपियों के साथ विहार में रत रहते हैं।
  • कृष्ण अवतार के समय गोकुल के वासी सुनंद गोप की कन्या के रूप में उग्रतप का जन्म हुआ था।
  • गोपिका रूप में इन्होंने कृष्ण की अनन्यभाव से उत्कृष्ट सेवा की।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. उग्रतप (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 02 फ़रवरी, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=उग्रतप&oldid=609642" से लिया गया