उग्रायुध  

उग्रायुध हिन्दू धर्म में मान्य 'भागवत' के अनुसार 'नीप' का पुत्र था। अन्य पुराणों में इस बात का उल्लेख भी हुआ है कि वह 'कृत' का पुत्र था।

  • माना जाता है कि उग्रायुध ने आठ हज़ार वर्ष तक कठिन तपस्या की थी।
  • मृत्यु के देवता यमराज ने स्वयं इसे तत्वज्ञान सिखाया था।
  • उग्रायुध के पुत्र का नाम 'क्षेम्य' था।
  • 101 नीपों का नाश उग्रायुध द्वारा किया गया था और भल्लाटपुत्र जनमेजय को भी इसने मारा था।
  • महाभारत में प्रसिद्ध राज्य हस्तिनापुर के महाराज शांतनु की मृत्यु के बाद उग्रायुध ने सत्यवती की माँग की थी, जिससे क्रुद्ध होकर भीष्म ने इसका वध कर दिया था।[1]


इन्हें भी देखें: महाभारत, सत्यवती एवं भीष्म


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. उग्रायुध (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 02 फ़रवरी, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=उग्रायुध&oldid=609876" से लिया गया