उच्चैश्रवा  

उच्चैश्रवा पौराणिक धर्म ग्रंथों और हिन्दू मान्यताओं के अनुसार इन्द्र के अश्व का नाम है। यह अश्व समुद्र मंथन के दौरान जो चौदह वस्तुएँ प्राप्त हुई थीं, उनमें से एक था। इसे देवराज इन्द्र को दे दिया गया था।

  • उच्चैश्रवा के कई अर्थ हैं, जैसे- जिसका यश ऊँचा हो, जिसके कान ऊँचे हों अथवा जो ऊँचा सुनता हो।
  • मुख्य रूप से उच्चैश्रवा को इन्द्र के अश्व के रूप में ही जाना जाता है।
  • देवराज इन्द्र के इस अश्व का वर्ण श्वेत है।
  • पुराणों में इसकी गिनती उन चौदह रत्नों में होती है, जो समुद्र मंथन के समय क्षीरसागर से निकली थीं।
  • उच्चैश्रवा का पोषण अमृत से होता है। यह अश्वों का राजा है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=उच्चैश्रवा&oldid=469085" से लिया गया