उत्तमौजा  

उत्तमौजा उत्तर वैदिक परंपरा में सृंजय पांचालों के साथ संबद्ध दिखलाए गए हैं। महाभारत में उत्तमौजा को पांचाल तथा सृंजय दोनों ही कहा गया है। महाभारत के पात्रों में उत्तमौजा एक पराक्रमी राजा था, जिसे 'युद्धविशारद' और 'वीर्यवान' कहा गया है, और जिसने पांडवों की ओर से युद्ध किया था।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. चन्द्रचूड़ मणि, हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 2, पृष्ठ संख्या 67

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=उत्तमौजा&oldid=632113" से लिया गया