ऊँट  

ऊँट विषय सूची
ऊँट
ऊँट
जगत जंतु (Animalia)
संघ कौरडेटा (Chordata)
वर्ग स्तनधारी (Mammalia)
गण आर्टियोडैकटिला (Artiodactyla)
कुल कैमलिडाए (Camelidae)
जाति कैमेलस (Camelus)
प्रजाति बॅक्ट्रिऍनस (bactrianus)
द्विपद नाम कॅमलस बॅक्ट्रिऍनस (Camelus bactrianus)
संबंधित लेख गाय, भैंस, हाथी, घोड़ा, सिंह, बाघ
अन्य जानकारी अरबी ऊँट के एक कूबड़ जबकि बैकट्रियन ऊँट के दो कूबड़ होते है। अरबी ऊँट पश्चिमी एशिया के सूखे रेगिस्तान क्षेत्रों के जबकि बैकट्रियन ऊँट मध्य और पूर्व एशिया के मूल निवासी हैं। इसे रेगिस्तान का जहाज़ भी कहते हैं।

ऊँट (अंग्रेज़ी:Camel) एक विशालकाय और बहुत ही सहनशील पशु है जो कैमलायडी कुल का सदस्य है जो मेमेलिया वर्ग में आती है। अरबी ऊँट के एक कूबड़ जबकि बैकट्रियन ऊँट के दो कूबड़ होते है। अरबी ऊँट पश्चिमी एशिया के सूखे रेगिस्तान क्षेत्रों के जबकि बैकट्रियन ऊँट मध्य और पूर्व एशिया के मूल निवासी हैं। इसे रेगिस्तान का जहाज़ भी कहते हैं। यह रेतीले तपते मैदानों में 21-21 दिन तक बिना पानी पिये चल सकता है। इसका उपयोग सवारी और सामान ढोने के काम आता है।

सामान्य परिचय

ऊंट दो प्रकार के होते हैं- अरब या एक कूबड़ वाला ऊंट जिसे कैमेलसड्रोमेडेरियस कहते हैं तथा 2 कूबड़ वाला ऊंट जिसे कैमेलस बैक्ट्रिएनस कहते हैं। यह पशु अब जंगलों में नहीं पाया जाता है। भारत में केवल एक कूबड़ वाला ऊंट ही पाया जाता है। राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब आदि प्रान्तों में ऊंटों की संख्या ज्यादा है। 1966 की गणना के अनुसार विश्व में लगभग 50 लाख ऊंट थे, जिसमें से भारत में 10 लाख हैं। भारत के कुल ऊंटों की आधी संख्या राजस्थान में है। ऊंट एक विशाल और मजबूत व ऊंचा पशु है जिसकी ऊंचाई 2 मीटर से 3 मीटर तक हो सकती है।

शारारिक बनावट एवं खान-पान

ऊंट की टांगे और गर्दन लम्बी तथा पीठ पर एक बडा सा कूबड़ होता है। इसके पैरों में गद्दियां होती है। नथुने पतले होते हैं जिस कारण से रेत नाक में नहीं जाती। इसके पहले और दूसरे अमाशयों की दीवारों में जल संचिकाएं होती है तथा कूबड़ में वसा भरी रहती है। यह पशु 25 लीटर तक जल का भण्डारण कर सकता है। इसके दांत नुकीले होते हैं तथा जुगाली के अलावा लड़ाई में भी दांतों का प्रयोग करता है। और एक ही स्थान पर खाने के बजाय चरना ज्यादा पसन्द करता है और मोटी-झोटी वनस्पति भी चाव से खाता है। भुसा, मौठ, मूंग, चना आदि का पूरक चारा भी दिया जाता है। ऊंट को ताजा फिटकरी भी पिलाई जाती है। यह पशु 5 वर्ष की उम्र में जवान हो जाता है और 40-50 वषरें तक जीता है। ऋतुकाल में नरपशु मदान्ध हो जाता है। शोर मचाता है, एक बार में एक मादा एक बच्चे को जन्म देती है तथा गर्भावधि 11-13 महीने की होती है। ऊंटनी अपने बच्चे को एक वर्ष तक दूध पिलाती है।[1]

मरूप्रदेश के परिप्रेक्ष्य में ऊँट का परिचय

मरूप्रदेश में ऊँट अपनी पहचान अलग से रखता है। रेगिस्तान के लेखन में अगर इस पशुधन का नाम न लिया जाय तो मारवा का परिचय अधूरा रह जाएगा। मारवाड़ में ऊँट का संबंध जनजीतवन के प्रत्येक ताने-बाने से जुड़ा हुआ है। इस पशु ने अपना स्थान इतिहास में भी बनाया है तथा मरूप्रदेश में उपयोगिता की दृष्टि से इसका महत्वपूर्ण स्थान रहा है। ऊँट ने मारवा के लोगों के जीवन में एक अहम् भूमिका निभाई है। साहित्य में विशेषकर कथा, कहानी, वात, गीत, किस्सागोई इत्यादि में ऊँटों के संदर्भ बिखरे पड़े हैं। सामरिक दृष्टि से ऊँट अत्यन्त उपयोगी जानवर रहा है तथा आज भी है। संवाद-प्रेषण और यातायात में ऊँट ने एक अलग पहचान बनाई है।[2]

ऊँट की चाल

ऊँट अपने चाल के लिए पूरे मरुस्थल में प्रसिद्ध रहा है। ऊँट की एक खास चाल को झुरको कहते हैं। ऊँट की तेज चाल को ढाण कहते हैं तथा विशेष रूप से सिखाई हुई चाल को ठिरियों कहते हैं। चारों पाँव उठाकर भागने को तबड़कौ कहते हैं। पिछले पाँव से लात निकालने को ताप कहते हैं तथा चारों पाँव साथ उठालने को तापौ कहते हैं। ऊँट के इधर-उधर फुदकने को तरापणै कहते हैं। रपटक नाम की भी ऊँट की एक खास चाल होती है। ओछीढाण अर्थात् खुलकर नहीं चलने वाल भी ऊँट की एक चाल होती है। सूरड़को, टसरियो लूंरियो, पड़छ आदि ऊँट की अन्य चालों में से एक है।[3]

ऊँट की सवारी तथा परंपराएँ

  • मारवा में ऊँट की सवारी करने की भी समाज में परम्पराएँ स्थापित हैं। जैसे अपनी पत्नी को हमेशा ऊँट पर पीछे बिठाया जाता है, बहन-बेटी को सवार हमेशा आगे बैठाता है तथा उसकी मोहरी जनाना सवारी के हाथ में होती है।
  • ऊँटों का और रबारियों का साथ चोली-दामन जैसा है। पुराने जमाने में रबारी सबसे ज्यादा विश्वासी और सन्देशवाहक माने जाते थे और वे रातों-रात सौ-सौ कोस जाने का जिगर रखते थे। इन्होंने हमेशा राजपूतों की सेवा तन-मन से की है।[4]

विशेषताएँ

  • ऊँट शब्द का प्रयोग मोटे तौर पर ऊँट परिवार के छह ऊँट जैसे प्राणियों का वर्णन करने के लिए किया जाता है, इनमें दो वास्तविक ऊँट और चार दक्षिण अमेरिकी ऊँट जैसे जीव है जो हैं लामा, अलपाका, गुआनाको और विकुना। एक ऊँट की औसत जीवन प्रत्याशा चालीस से पचास वर्ष होती है।
  • एक पूरी तरह से विकसित खड़े वयस्क ऊंट की ऊँचाई कंधे तक 1.85 मी और कूबड़ तक 2.15 मी होती है। कूबड़ शरीर से लगभग तीस इंच उपर तक बढ़ता है।
  • ऊँट की अधिकतम भागने की गति 65 किमी/घंटा के आसपास होती है तथा लम्बी दूरी की यात्रा के दौरान यह अपनी गति 40 किमी/घंटा तक बनाए रख सकता है।
  • जीवाश्म साक्ष्यों से पता चलता है कि आधुनिक ऊँट के पूर्वजों का विकास उत्तरी अमेरिका में हुआ था जो बाद में एशिया में फैल गये। लगभग 2000 ई.पू. में पहले पहल मनुष्य ने ऊँटों को पालतू बनाया था। अरबी ऊँट और बैकट्रियन ऊँट दोनों का उपयोग अभी भी दूध, मांस और बोझा ढोने के लिये किया जाता है।
  • एक ऊंटनी 12 से 14 महीनों के अंदर एक बच्चे को जन्म देती हैं तो इसका वजन 80 पौंड तक होता है और बच्चा बिल्कुल सफ़ेद रंग का होता है। जन्म के कई घंटे बीतने के बाद ही ऊंटनी का बच्चा खड़ा हो पाता है।[5]

रेगिस्तान का जहाज़

ऊँट को रेगिस्तान का जहाज़ भी कहा जाता है। मरुस्थल जैसी गर्म जगहों पर पाया जाने वाला यह जीव अपने “कूबड़” के कारण बड़ा दिलचस्प प्रतीत होता है। ऊंटों के जन्म से ही कूबड़ नहीं होता बल्कि ये बड़े होने पर स्वतः आता है। ऊंट के बच्चे शुरुआत में कई साल तक अपनी माँ के साथ ही रहते हैं। ऊंट बहुत ही शांत स्वभाव के पशु होते हैं वह कभी भी बहुत ज्यादा आक्रामक नहीं होते ऊंट के कूबड़ में उसके पूरे शरीर की मोटी चर्बी जमा होती है और इसी कूबड़ की वजह से ऊंट भयंकर गर्मी वाले रेगिस्तान में भी आराम से रह पाता है। एशियाई ऊंटों के दो कूबड़ होते हैं जबकि अरब के ऊंटों का सिर्फ एक कूबड़ होता है ऊंट की आँखों में पलकों की तीन परत होती हैं जिससे वह धूल और रेत से आँखों को बचा पाता है। ऊंटों के कान छोटे और बालों से भरे होते हैं हालाँकि ऊंटों के सुनने की शक्ति बहुत तेज होती है। ऊंट रोजाना पानी नहीं पीते लेकिन जब पीते हैं तो एक बार में 100 से 150 लीटर पानी पीते हैं ऊंट कांटेदार टहनियों को भी आसानी से खा सकते हैं जबकि दूसरे पशु कांटेदार तने या टहनियां नहीं खा पाते। ऊंट को अगर मालिक डांटता है तो ऊंट जमीन पर थूकना शुरू कर देता है। ऊंट की मोटी चमड़ी सूरज की किरणों को रिफ्लेक्ट कर देती है इसलिए ऊंट का शरीर कभी भी ज्यादा गर्म नहीं होता। ऊंट को कभी पसीना नहीं आता इसीलिए वह रेगिस्तान के लिए सबसे उत्तम पशु है। ऊंट को आपने अक्सर बहुत धीमा धीमा चलते देखा होगा लेकिन ऊंट रेगिस्तान में 40 मील प्रति घंटा से तेज रफ़्तार से दौड़ सकते हैं। ऊंट घास, अनाज, बीज, टहनियाँ ही खाते हैं। ऊंट अपने नाक के नथुने भी बंद कर लेते हैं ताकि रेत अंदर ना घुसे। ऊंटों की औसत आयु 40-50 साल होती है। ऊंट सर्दियों में दो महीने तक बिना पानी पिए रह सकते हैं, दरअसल ऊंटों के कूबड़ में उनके शरीर की चर्बी जमी होती है जो ज़रूरत पड़ने पर उनके लिए खाना और पानी की कमी की पूर्ति करती रहती है। ऊंटों का पेशाब चाशनी जैसा गाढ़ा होता है। ऊंट के दूध में गाय से दूध से कम वसा होता है।[6]

रोचक जानकारी

लगभग 40 से 50 साल जिंदा रहने वाले ऊंट के शरीर में विभिन्न प्रकार की खूबियां होती हैं जिनके कारण वह रेगिस्तान के अलग और कठिन वातावरण में रह पाता है। रेगिस्तान में रेतभरी हवाएं चलती हैं जिनसे बचाव के लिए ऊंट की पलकों और कानों पर लंबे बाल होते हैं और इसकी नाक पूरी तरह से बंद हो जाती है। पलकों और कानों पर होने वाले लंबे बालों से रेत आंखों और कानों के अंदर नहीं जा पाती। ऊंट एक हफ्ते से ज्यादा पानी पिए बिना और कई महीनों तक बिना खाने के रह सकता है। ऊंट की एक बार में 46 लीटर तक पानी पीने की क्षमता होती है। ऊंट की पीठ पर एक कूबड़ होती है जिसमें ऊंट फैट (वसा) इकट्ठा करके रखता है और इसी ऊर्जा से महीनों तक अपना काम चलाता है। एक स्वस्थ ऊंट के शरीर का तापमान दिनभर में 34 डिग्री सेल्सियस से 41.7 डिग्री सेल्सियस के बीच में बदलता रहता है जिससे ऊंट पसीने के रूप में पानी के क्षय को रोकता है, जब वातावरण में तापमान बढ़ता है। ऊंट के पैर चौड़े होते हैं और उसके वजन को रेत पर फैला देते हैं साथ ही साथ रेत में धंसते नहीं हैं जिससे वह रेत में आसानी से चल पाता है। ऊंट के होठ मोटे होते हैं जिससे वह रेगिस्तान में पाए जाने वाले कांटेदार पौधे भी खा पाता है। इसकी लंबी गर्दन की वजह से यह ऊंचे वृक्षों की पत्तियों को भी खा पाता है। इसके पेट और घुटनों पर रबर जैसी त्वचा होती है जिससे बैठते समय रेत के संपर्क में आने पर भी इसका बचाव हो सके। यह त्वचा ऊंट के उम्र 5 वर्ष का होने के बाद बनती है। ऊंट के शरीर के रंग की वजह से भी इसे रेगिस्तान के मौसम में रहने में आसानी होती है। इसके शरीर पर बालों की एक मोटी परत होती है जिससे यह धूप सह लेता है।[7]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. यशवन्त कोठारी का आलेख : रेगिस्तान का जहाज : ऊंट (हिंदी) रचनाकार। अभिगमन तिथि: 20 अक्टूबर, 2017।
  2. मरुप्रदेश के परिप्रेक्ष्य में ऊँट का परिचय (हिंदी) igcna.nic.in। अभिगमन तिथि: 26 अक्टूबर, 2017।
  3. ऊँट की चाल (हिंदी) igcna.nic.in। अभिगमन तिथि: 26 अक्टूबर, 2017।
  4. मारवा में ऊँट की सवारी तथा परंपराएँ (हिंदी) igcna.nic.in। अभिगमन तिथि: 26 अक्टूबर, 2017।
  5. ऊंट के बारे में ख़ास बातें जाने (हिंदी) हिन्दी पॉट। अभिगमन तिथि: 20 अक्टूबर, 2017।
  6. रेगिस्तान का जहाज़ (हिंदी) हिन्दी सोच। अभिगमन तिथि: 20 अक्टूबर, 2017।
  7. ऊंट के बारे में रोचक जानकारी (हिंदी) achi tips। अभिगमन तिथि: 20 अक्टूबर, 2017।

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ऊँट&oldid=616892" से लिया गया