ऑटिज़्म  

ऑटिज़्म
ऑटिज़्म से ग्रसित व्यक्ति
विवरण ऑटिज़्म एक मस्तिष्क विकार है। ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम विकार (एएसडी) सामाजिक विकृतियों, संवाद में परेशानी, प्रतिबंधित, व्यवहार का दोहराव और व्यवहार का स्टिरियोटाइप पैटर्न द्वारा पहचाने जाने वाला तंत्रिका विकास संबंधी जटिल विकार है।
अन्य नाम आत्मविमोह, स्वलीनता
प्रकार ए.एस.डी. के तीन प्रकार हैं- ऑटिस्टिक विकार, एस्पर्जर सिन्ड्रोम और व्यापक विकासात्मक विकार।
इतिहास पहली बार सन् 1938 में वियना यूनिवर्सिटी के हॉस्पिटल में कार्यरत हैंस एस्परजर ने ऑटिज़्म शब्द का इस्तेमाल किया था। एस्परजर उन दिनों ऑटिज़्म स्प्रेक्ट्रम (ए.एस.डी.) के एक प्रकार पर खोज कर रहे थे । बाद में 1943 में जॉन हापकिन हॉस्पिटल के कॉनर लियो ने सर्वप्रथम 'ऑटिज़्म' को अपनी रिपोर्ट में वर्णित किया था। कॉनर ने ग्यारह बच्चों में पाई गई एक जैसी व्यवहारिक समानताओं पर आधारित रिपोर्ट तैयार की थी।[1]
प्रभाव वर्ष 2010 तक दुनिया की लगभग 7 करोड़ आबादी ऑटिज़्म से प्रभावित है। विश्व में ऑटिज़्म से प्रभावितों की संख्या एड्स, मधुमेह और कैंसर से पीड़ित रोगियों की मिली-जुली संख्या से भी अधिक होने की सम्भावना है।
संबंधित लेख विश्व ऑटिज़्म जागरूकता दिवस, प्रोजेरिया, अल्ज़ाइमर
अन्य जानकारी ऑटिज़्म की शीघ्र की गई पहचान, मनोरोग विशेषज्ञ से तुंरत परामर्श ही इसका सबसे पहला इलाज़ है। अगर माता-पिता इसके शुरुआती लक्षणों के आधार पर इसकी पहचान कर सकें तो बच्चे को किसी मनोचिकित्सक को दिखाएं।

ऑटिज़्म (अंग्रेज़ी: Autism) या आत्मविमोह / स्वलीनता, एक मानसिक रोग है। यह मस्तिष्क के विकास के दौरान होने वाला एक विकार है जिसके लक्षण जन्म से या बाल्यावस्था (प्रथम तीन वर्षों में) में ही नज़र आने लगते हैं और व्यक्ति की सामाजिक कुशलता और संप्रेषण क्षमता पर विपरीत प्रभाव डालता है। जिन बच्चों में यह रोग होता है उनका विकास अन्य बच्चों से असामान्य होता है, साथ ही इसकी वजह से उनके न्यूरोसिस्टम पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। इससे प्रभावित व्यक्ति, सीमित और दोहराव युक्त व्यवहार करता है। जैसे- एक ही काम को बार-बार दोहराना। यह जीवनपर्यंत बना रहने वाला विकार है। ऑटिज़्मग्रस्त व्यक्ति संवेदनों के प्रति असामान्य व्यवहार दर्शाते हैं, क्योंकि उनके एक या अधिक संवेदन प्रभावित होते हैं। इन सब समस्याओं का प्रभाव व्यक्ति के व्यवहार में दिखाई देता है। जैसे- व्यक्तियों, वस्तुओं और घटनाओं से असामान्य तरीक़े से जुड़ना। ऑटिज़्म का विस्तृत दायरा है। इसके लक्षणों की गंभीरता सीखने और सामाजिक अनुकूलता के क्षेत्र में साधारण कमी से लेकर गंभीर क्षति तक हो सकती है, क्योंकि एक या अनेक समस्याएँ और अत्यधिक असामान्य व्यवहार स्थिति को गंभीर बना सकता है। ऑटिज़्म के साथ अन्य समस्या भी हो सकती है, जैसे- मानसिक विकलांगता, मिर्गी, बोलने व सुनने में कठिनाई आदि। यह बहुत कम होने वाली समस्या नहीं है, बल्कि विकास संबंधी विकारों में इसका तीसरा स्थान है। यह अमीर या ग़रीब किसी भी तबके में पाई जा सकती है।[2]

इतिहास

ऑटिज़्म को हिन्दी में स्वलीनता, स्वपरायणता अथवा स्वत: प्रेम कहते हैं। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, 'ऑटिज़्म' यानि स्वलीनता से ग्रसित व्यक्ति बाहरी दुनिया से बेख़बर अपने आप में ही लीन रहता है। सुनने के लिए कान स्वस्थ है, देखने के लिए आंखें ठीक हैं फिर भी वह अपने आस पास के वातावरण से अनजान रहता है। पहली बार सन् 1938 में वियना यूनिवर्सिटी के हॉस्पिटल में कार्यरत हैंस एस्परजर ने ऑटिज़्म शब्द का इस्तेमाल किया था। एस्परजर उन दिनों ऑटिज़्म स्प्रेक्ट्रम (ए.एस.डी.) के एक प्रकार पर खोज कर रहे थे । बाद में 1943 में जॉन हापकिन हॉस्पिटल के कॉनर लियो ने सर्वप्रथम 'ऑटिज़्म' को अपनी रिपोर्ट में वर्णित किया था। कॉनर ने ग्यारह बच्चों में पाई गई एक जैसी व्यवहारिक समानताओं पर आधारित रिपोर्ट तैयार की थी।[1]

ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (ASD)

ऑटिज़्म से प्रभावित व्यक्ति, सीमित और दोहराव युक्त व्यवहार करता है। जैसे- एक ही काम को बार-बार दोहराना। यह सब बच्चे के तीन साल होने से पहले ही शुरू हो जाता है। इन लक्षणों के हल्के (कम प्रभावी) को ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (ASD) कहते हैं। जैसे- एस्पर्जर सिंड्रोम तथा इसके गंभीर रूप को ऑटिज़्म (ऑटिस्टिक डिसऑर्डर) कहते हैं। ऑटिज़्म का एक मज़बूत आनुवंशिक आधार होता है, हालांकि ऑटिज़्म की आनुवंशिकी जटिल है और यह स्पष्ट नहीं है कि ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर का कारण बहुजीन संवाद (multigene interactions) है या दुर्लभ उत्परिवर्तन (म्यूटेशन)। ऑटिज़्म से ग्रसित बच्चे आम बच्चों के मुक़ाबले कम संलग्न सुरक्षा का प्रदर्शन करते हैं (जैसे आम बच्चे माता पिता की मौजूदगी में सुरक्षित महसूस करते हैं) यद्यपि यह लक्षण उच्च मस्तिष्क विकास वाले या जिनका ए एस डी कम होता है वाले बच्चों में गायब हो जाता है। ASD से ग्रसित बड़े बच्चे और व्यस्क चेहरों और भावनाओं को पहचानने के परीक्षण में बहुत बुरा प्रदर्शन करते हैं। ASD से पीड़ित लोगों के गुस्से और हिंसा के बारे में काफ़ी किस्से हैं लेकिन वैज्ञानिक अध्ययन बहुत कम हैं। यह सीमित आँकडे बताते हैं कि ऑटिज़्म के शिकार मंद बुद्धि बच्चे ही अक्सर आक्रामक या उग्र होते हैं।

एएसडी के प्रकार

ऑटिस्टिक विकार

"क्लासिक" ऑटिज़्म भी कहा जाता है। यह ऑटिज़्म का सबसे सामान्य प्रकार होता है। ऑटिज़्म विकार से पीड़ित रोगी को भाषा में व्यवधान, सामाजिक और संचार में चुनौतियों तथा असामान्य व्यवहार एवं अरुचियां हो सकती है। इस विकार से पीड़ित बहुत सारे व्यक्तियों में बौद्धिक विकलांगता भी हो सकती है।

एस्पर्जर सिन्ड्रोम

एस्पर्जर सिन्ड्रोम से पीड़ित व्यक्ति में ऑटिस्टिक विकार के हल्के लक्षण विकसित होते हैं। उन्हें सामाजिक चुनौतियां और असामान्य व्यवहार तथा अरुचियां भी हो सकती हैं। हालांकि, आमतौर पर यह भाषा या बौद्धिक विकलांगता के साथ होने वाली समस्या नहीं है।

व्यापक विकासात्मक विकार

इस विकार को "असामान्य ऑटिज़्म" कहा जाता है। ऑटिस्टिक विकार या एस्पर्गर सिंड्रोम से पीड़ित व्यक्ति के लक्षण अलग-अलग होते हैं, अर्थात् यह लक्षण सभी में एक समान बिल्कुल नहीं होते हैं। पीडीडी-एनओएस के साथ का निदान किया जा सकता है। आमतौर पर पीडीडी-एनओएस से पीड़ित व्यक्तियों में ऑटिस्टिक विकार से पीड़ित व्यक्तियों की तुलना में कम और मध्यम लक्षण प्रकट होते हैं। यह लक्षण केवल सामाजिक और संचार चुनौतियों का कारण बन सकते हैं।

ऑटिज़्म का प्रभाव

वर्ष 2010 तक दुनिया की लगभग 7 करोड़ आबादी ऑटिज़्म से प्रभावित है। विश्व में ऑटिज़्म से प्रभावितों की संख्या एड्स, मधुमेह और कैंसर से पीड़ित रोगियों की मिली-जुली संख्या से भी अधिक होने की सम्भावना है। यहाँ तक कि इससे प्रभावित होने वाले व्यक्तियों की संख्या डाउन सिन्ड्रोम की अपेक्षा अधिक है। विश्व भर में प्रति 10,000 में से 20 व्यक्ति इससे प्रभावित होते हैं और इससे प्रभावित व्यक्तियों में से 80 प्रतिशत मरीज़ पुरुष और मात्र 20 प्रतिशत महिलाएँ हैं। इसका मतलब ऑटिज़्म की समस्या लड़कियों की अपेक्षा लड़कों में 4 से 5 गुना ज़्यादा है। जिसका अनुपात 1:4.3 है। पुरुषों में ऑटिज़्म अधिक होने का कोई ठोस कारण अब तक सामने नहीं आया है। यह समस्या विश्वभर में सभी वर्गों के लोगों में पाई जाती है। भारत में ऑटिज़्म से ग्रस्त व्यक्तियों की संख्या लगभग 1 करोड़ 70 लाख (तक़रीबन 1.5 मिलियन) है। वर्ष 1980 से अब तक किए गए विभिन्न सर्वेक्षणों के ऑंकड़ों पर नज़र डालें तो ज्ञात होगा कि इस बीच ऑटिज़्म समस्या में आश्चर्यजनक ढंग से बढ़ोत्तरी हुई है। सम्भवत: इसका कारण लोगों में इसके प्रति बढ़ती जागरूकता, डायग्नोसिस के तरीकों में बदलाव तथा सम्बन्धित सेवाओं की सुलभता रही है।[1]

ऑटिज़्म के लक्षण

ऑटिज़्म के लक्षण

ऑटिज़्म परवेसिव डेवलॅपमेंटल डिसआर्डर (पी.डी.डी.) के पाँच प्रकारों में से एक है। ऑटिज़्म को केवल एक लक्षण के आधार पर पहचाना नहीं जा सकता, बल्कि लक्षणों के पैटर्न के आधार पर ही ऑटिज़्म की पहचान की जा सकती है। सामाजिक कुशलता व संप्रेषण का अभाव, किसी कार्य को बार-बार दोहराने की प्रवृत्ति तथा सीमित रुझान इसके प्रमुख लक्षण हैं। एक आम आदमी के लिए ऑटिज़्म की पहचान करना काफ़ी मुश्किल है। इसके मूल में दो कारण हो सकते हैं। एक तो आटिस्टिक व्यक्ति की शारीरिक संरचना में प्रत्यक्ष तौर पर कोई कभी नहीं होती। अन्य सामान्य व्यक्तियों जैसी ही होती है। दूसरे बच्चे की तीन वर्ष की उम्र में ही ऑटिज़्म के लक्षण दिखाई देते हैं, इससे पहले नहीं। गौर करने वाली बात यह है कि ऑटिज़्म से पीड़ित दो बच्चों के लक्षण समान नहीं होते हैं। जहाँ कुछ बच्चों में यह बीमारी सामान्य रूप में होती है, तो कुछ में इसका प्रभाव ज़्यादा देखने को मिलता है। ऑटिज़्म मस्तिष्क के कई भागों को प्रभावित करता है, पर इसके कारणों को ढंग से नहीं समझा जाता। आमतौर पर माता पिता अपने बच्चे के जीवन के पहले दो वर्षों में ही इसके लक्षणों को भाँप लेते हैं। ऑटिज़्म को एक लक्षण के बजाय एक विशिष्ट लक्षणों के समूह द्वारा बेहतर समझा जा सकता है। मुख्य लक्षणों में शामिल हैं-

सामाजिक संपर्क में असमर्थता

ऑटिज़्म से ग्रस्त व्यक्ति परस्पर संबंध स्थापित नहीं कर पाते हैं तथा सामाजिक व्यवहार में असमर्थ होने के साथ ही दूसरे लोगों के मंतव्यों को समझने में भी असमर्थ होते हैं इस कारण लोग अक्सर इन्हें गंभीरता से नहीं लेते। सामाजिक असमर्थतायें बचपन से शुरू होकर व्यस्क होने तक चलती हैं। ऑटिस्टिक बच्चे सामाजिक गतिविधियों के प्रति उदासीन होते हैं, वो लोगो की ओर ना देखते हैं, ना मुस्कुराते हैं और ज़्यादातर अपना नाम पुकारे जाने पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं करते हैं। ऑटिस्टिक शिशुओं का व्यवहार तो और चौंकाने वाला होता है, वो आँख नहीं मिलाते हैं और अपनी बात कहने के लिये वो अक्सर दूसरे व्यक्ति का हाथ छूते और हिलाते हैं। तीन से पाँच साल के बच्चे आमतौर पर सामाजिक समझ नहीं प्रदर्शित करते हैं, बुलाने पर एकदम से प्रतिकिया नहीं देते, भावनाओं के प्रति असंवेदनशील, मूक व्यवहारी और दूसरों के साथ मुड़ जाते हैं। इसके बावजूद वो अपनी प्राथमिक देखभाल करने वाले व्यक्ति से जुडे होते हैं। ऑटिज़्म से ग्रसित बच्चे आम बच्चों के मुक़ाबले कम संलग्न सुरक्षा का प्रदर्शन करते हैं (जैसे आम बच्चे माता पिता की मौजूदगी में सुरक्षित महसूस करते हैं)। आम धारणा के विपरीत, आटिस्टिक बच्चे अकेले रहना पसंद नहीं करते। दोस्त बनाना और दोस्ती बनाए रखना आटिस्टिक बच्चे के लिये अक्सर मुश्किल साबित होता है। इनके लिये मित्रों की संख्या नहीं बल्कि दोस्ती की गुणवत्ता मायने रखती है।

बातचीत करने में असमर्थता

ऑटिज़्म प्रभावित बच्चों की सबसे बड़ी समस्या भाषागत होती है। ऐसे बच्चों में मस्तिष्क में आए स्न्नायु विकार के कारण संप्रेषण की डीकोडिंग न हो पाने के कारण बोलने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है। लगभग 50% बच्चों में भाषा का विकास नहीं हो पाता है। एक तिहाई से लेकर आधे ऑटिस्टिक व्यक्तियों में अपने दैनिक जीवन की जरूरतों को पूरा करने के लायक़ भाषा बोध तथा बोलने की क्षमता विकसित नहीं हो पाती। संचार में कमियाँ जीवन के पहले वर्ष में ही दृष्टिगोचर हो जाती हैं जिनमे शामिल है, देर से बोलना, असामान्य भाव, मंद प्रतिक्रिया और अपने पालक के साथ हुये वार्तालाप में सामंजस्य का नितांत आभाव। दूसरे और तीसरे साल में, ऑटिस्टिक बच्चे कम बोलते हैं, साथ ही उनका शब्द संचय और शब्द संयोजन भी विस्तृत नहीं होता। उनके भाव अक्सर उनके बोले शब्दों से मेल नहीं खाते। आटिस्टिक बच्चों में अनुरोध करने या अनुभवों को बाँटने की संभावना कम होती है, और उनमें बस दूसरों की बातें को दोहराने की संभावना अधिक होती है।

सीमित शौक़ और दोहराव युक्त व्यवहार
  1. वे एक ही क्रिया, व्यवहार को दोहराते हैं। जैसे- हाथ हिलाना, शरीर हिलाना और बिना मतलब की आवाज़ें करना आदि। जिसे स्टीरियोटाईपी कहते है यह एक निरर्थक प्रतिक्रिया है।
  2. प्रतिबंधित व्यवहार ध्यान, शौक़ या गतिविधि को सीमित रखने से संबधित है, जैसे एक ही टीवी कार्यक्रम को बार बार देखना।
  3. बाध्यकारी व्यवहार का उद्देश्य नियमों का पालन करना होता है, जैसे कि वस्तुओं को एक निश्चित तरह की व्यवस्था में रखना।
  4. अनुष्ठानिक व्यवहार के प्रदर्शन में शामिल हैं दैनिक गतिविधियों को हर बार एक ही तरह से करना, जैसे- एक सा खाना, एक सी पोशाक आदि। यह समानता के साथ निकटता से जुड़ा है और एक स्वतंत्र सत्यापन दोनों के संयोजन की सलाह देता है।
  5. समानता का अर्थ परिवर्तन का प्रतिरोध है, उदाहरण के लिए, फर्नीचर के स्थानांतरण से इंकार।
  6. आत्मघात (स्वयं को चोट पहुँचाना) से अभिप्राय है कि कोई भी ऐसी क्रिया जिससे व्यक्ति खुद को आहत कर सकता हो, जैसे- खुद को काट लेना। डोमिनिक एट अल के अनुसार लगभग ASD से प्रभावित 30% बच्चे स्वयं को चोट पहँचा सकते हैं।
  7. वे प्रकाश, ध्वनि, स्पर्श और दर्द जैसे संवेदनों के प्रति असामान्य प्रतिक्रिया दर्शाते हैं। उदाहरण के तौर पर वह प्रकाश में अपनी आंखों को बंद कर लेते हैं, कुछ विशेष ध्वनियां होने पर वह अपने कानों को बंद कर लेते हैं।
खेलने का उनका अपना असामान्य तरीक़ा

ऑटिज़्म से पीड़ित बच्चे अलग तरीक़े के खेल खेलते हैं, जैसे कई कारों को क्रमबद्ध करने का खेल। ये बच्चे खिलौने को आम बच्चों की तुलना में अधिक घुमाते हैं। ऐसे बच्चे समूह में रहना पसंद नहीं करते, उनकी अपनी अलग ही दुनिया होती है। वह बिना किसी बात के रोने और चिल्लाने लगते हैं। इस तरह के बच्चे अपने गुस्से, हताशा आदि का इजहार बोल कर नहीं कर पाते। कार्यात्मक संभाषण के लिए संयुक्त ध्यान आवश्यक होता है और इस संयुक्त ध्यान में कमी, ASD शिशुओं को अन्यों से अलग करता है।[3]

बाल्यावस्था में ऑटिज़्म को कैसे पहचाने

बाल्यावस्था में सामान्य बच्चों एवं ऑटिस्टिक बच्चों में कुछ प्रमुख अन्तर होते हैं जिनके आधार पर इस अवस्था की पहचान की जा सकती है जैसे:-

  1. सामान्य बच्चे माँ का चेहरा देखते हैं और उसके हाव-भाव समझने की कोशिश करते हैं परन्तु ऑटिज़्म से ग्रसित बच्चे किसी से नज़र मिलाने से कतराते हैं।
  2. सामान्य बच्चे आवाज़ें सुनने के बाद खुश हो जाते हैं परन्तु ऑटिस्टिक बच्चे आवाज़ों पर ध्यान नहीं देते।
  3. सामान्य बच्चे धीरे-धीरे भाषा ज्ञान में वृद्धि करते हैं परन्तु ऑटिस्टिक बच्चे बोलने के कुछ समय बाद अचानक ही बोलना बंद कर देते हैं तथा अजीब आवाज़ें निकालते हैं।
  4. सामान्य बच्चे माँ के दूर होने पर या अनजाने लोगों से मिलने पर परेशान हो जाते हैं परन्तु ऑटिस्टिक बच्चे किसी के आने-जाने पर परेशान नहीं होते।
  5. ऑटिस्टिक बच्चे तकलीफ के प्रति कोई क्रिया नहीं करते और बचने की भी कोशिश नहीं करते।
  6. सामान्य बच्चे क़रीबी लोगों को पहचानते हैं तथा उनके मिलने पर मुस्कुराते हैं लेकिन ऑटिस्टिक बच्चे कोशिश करने पर भी किसी से बात नहीं करते वो अपने ही दुनिया में खोये रहते हैं।
  7. ऑटिस्टिक बच्चे एक ही वस्तु या कार्य में मग्न रहते हैं तथा अजीब क्रियाओं को बार-बार दुहराते हैं। जैसे- आगे-पीछे हिलना, हाथ को हिलाते रहना।
  8. ऑटिस्टिक बच्चे अन्य बच्चों की तरह काल्पनिक खेल नहीं खेल पाते वह खेलने के बजाय खिलौनों को सूंघते या चाटते हैं।
  9. ऑटिस्टिक बच्चे बदलाव को बर्दास्त नहीं कर पाते एवं अपने क्रियाकलापों को नियमानुसार ही करना चाहते हैं।
  10. ऑटिस्टिक बच्चे बहुत चंचल या बहुत सुस्त होते हैं।
  11. इन बच्चों में कुछ विशेष बातें होती है जैसे- एक इन्द्री का अतितीव्र होना।

कब करें विशेषज्ञ से संपर्क

यहाँ कुछ ऐसे संकेत दिए जा रहे हैं, जिनके दिखाई देने पर बच्चे में ऑटिज़्म होने की संभावना हो सकती है। ऐसी स्थिति में शीघ्र से शीघ्र विशेषज्ञ से संपर्क किया जाना चाहिए।

  • यदि बच्चा लोगों से संबंध स्थापित नहीं करता हो। अधिकांशतः ऐसी स्थिति जन्म बाद से ही पहचानी जा सकती है, जैसे सामाजिक मुस्कान विलंब से देना अथवा बिलकुल न देना, उठाने के लिए हाथ आगे न बढ़ाना, भावनात्मक लगाव का अभाव।
  • भाषा के विकास में विलंब या अधूरा विकास, बिलकुल नहीं बोलना या सुनी हुई बात को बार-बार दोहराना।
  • संवेदनों की स्पष्ट क्रियाहीनता, जैसे- वातावरण की वस्तुओं, घटनाओं आदि को बिलकुल भी देखना-सुनना नहीं, अल्प अथवा अधिक प्रतिक्रिया (ध्वनि, प्रकाश, स्पर्श, दर्द के प्रति)।
  • मन में असामान्य भाव या भावहीनता, जैसे- ख़तरे की स्थिति में भय का अभाव, साधारण-सी बात पर अनियंत्रित प्रतिक्रिया, बिना कारण या अनियंत्रित ढंग से हँसना या रोना।
  • घंटों तक एक ही क्रिया-व्यवहार दोहराते रहना, जिसका कोई स्पष्ट कारण न हो, जैसे आँखों के सामने बार-बार हाथ ले जाना, आँखों का भेंगापन, निरर्थक आवाज़ें करना, आँखों के सामने वस्तुओं को लटकाना या घुमाना, शरीर को हिलाते रहना आदि।
  • सामान्य तरीक़े से खेल नहीं पाना, खिलौनों से न खेलकर अन्य वस्तुओं से असामान्य तरीक़े से खेलना।
  • क्रियाओं एवं व्यवहार को दोहराते रहने के स्वभाव के कारण वातावरण में किसी भी प्रकार का परिवर्तन पसंद नहीं करना और उसका विरोध करना। जैसे- सोने का समय, भोजन का प्रकार, फर्नीचर की जमावट, आने-जाने का रास्ता, दिनचर्या आदि में उनकी जो आदत या पसंद होती हैं, उससे अलग कुछ करने पर उसका विरोध करना।

ऑटिज़्म और भ्रांतियाँ

  • ये बच्चे अल्पबुद्धि वाले हों, ऐसा जरूरी नहीं है। ऐसा देखा गया है कि कुछ बच्चों का बौद्धिक स्तर सामान्य बच्चों जैसा या उनसे भी अधिक होता है। कुछ ऑटिस्टिक बच्चे तो बहुत कलात्मक गुण वाले भी होते हैं। चूँकि ये बच्चे समाज में मान्य तरीकों को सीखने में असमर्थ होते हैं और ज़्यादातर इन बच्चों में भाषा संबंधी दोष होते हैं, इसलिए इनका अभिव्यक्ति का तरीका सामान्य बच्चों से हटकर होता है।
  • इन बच्चों को समाज में सहभागिता से रहने, खेलने, उठने-बैठने की बहुत ज़्यादा आवश्यकता है। अतः इनसे भागने की बजाय हम सबको मिलकर इन्हें अपनाना चाहिए। हम जितना इन बच्चों से बातें करेंगे, उतना ही ये समाज से जुड़ेंगे। यदि हम अपने सामान्य बच्चों को इनसे दूर न ले जाकर, इनका तिरस्कार न करके सामान्य बच्चों को इन बच्चों की समस्याओं से अवगत कराएँ तो हम सामान्य बच्चों के मन में इन बच्चों के प्रति सम्मान एवं सहयोग की भावना तो जगा ही सकते हैं, साथ ही सामान्य बच्चों को ऑटिस्टिक बच्चों के समस्यात्मक व्यवहार को अपनाने से भी रोक सकते हैं।
  • ये बच्चे आक्रामक नहीं होते। इनका व्यवहार एवं अपनी बात को प्रकट करने का तरीका कुछ अलग होता है। उनके अनोखे तरीकों को देखकर अक्सर हमें ग़लतफहमी हो जाती है। 1 या 2 प्रतिशत मामलों में बच्चे के आक्रामक होने की संभावना हो सकती है यदि ऑटिज़्म के साथ-साथ बच्चे को कई बड़ी समस्या भी हो तो। इसके लिए हमें ऐसे बच्चों के साथ बातें करते समय सावधान रहने की आवश्यकता है, उनसे भागने की नहीं।
  • यह सोचना कि ये बच्चे कुछ नहीं कर सकते, बिलकुल ग़लत है। चूँकि इन बच्चों में बौद्धिक क्षमता अलग-अलग होती है, इसलिए ये सभी प्रकार के क्षेत्रों में आगे बढ़ सकते हैं। इनको सिर्फ़ सही मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। ये बच्चे किसी एक क्षेत्र में बहुत अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं जैसे संगीत, नृत्य या कलात्मक कौशल में।
  • ऑटिज़्म एक अवस्था है, न कि बीमारी। इसके प्रभावों को दवाइयों से कुछ हद तक नियंत्रण में रखा जा सकता है, लेकिन ऑटिज़्म को ख़त्म नहीं किया जा सकता। यह अवस्था जन्मजात भी हो सकती है और जन्म के कुछ सालों बाद भी हो सकती है।
  • यह अवस्था जीवनपर्यंत व्यक्ति में रहती है। बच्चे के बड़े हो जाने या शादी कर देने से इसमें अपने आप कोई कमी नहीं आती। हाँ, सही समय पर सही मार्गदर्शन में इसके प्रभावों पर नियंत्रण पाया जा सकता है। [4]

ऑटिज़्म होने के कारण

ऑटिज़्म होने की कोई एक वजह नहीं खोजी जा सकी है। यह समस्या वंशानुगत है, हालाँकि कौन-सा जीन इस समस्या का कारक है? अज्ञात है। अनुशोधों के अनुसार ऑटिज़्म होने के कई कारण हो सकते है। जैसे-

  1. मस्तिष्क की गतिविधियों में असामान्यता होना।
  2. मस्तिष्क के रसायनों में असामान्यता होना।
  3. जन्म से पहले बच्चे का विकास सामान्य रूप से न हो पाना।[5]

दुर्लभ मामलों में, ऑटिज़्म को उन कारकों से भी जोडा गया है जो जन्म संबंधी दोषों के लिये उत्तरदायी है। अन्य प्रस्तावित कारणों में, बचपन के टीके, विवादास्पद हैं और इसके कोई वैज्ञानिक सबूत भी नहीं है।

ऑटिज़्म का इलाज़

ऑटिज़्म की शीघ्र की गई पहचान, मनोरोग विशेषज्ञ से तुंरत परामर्श ही इसका सबसे पहला इलाज़ है। अगर माता-पिता इसके शुरुआती लक्षणों के आधार पर इसकी पहचान कर सकें तो बच्चे को किसी मनोचिकित्सक को दिखाएं। जितनी जल्दी आप बच्चे का इलाज़ शुरू करवा देंगे, उतनी ज़्यादा इस बात की संभावना है कि बच्चा स्वस्थ हो सके। ऑटिज़्म एक आजीवन रहने वाली अवस्था है जिसके पूर्ण इलाज़ के लिए यहाँ-वहां भटक कर समय बरबाद ना करे बल्कि इसके बारे में जानकारी जुटाएँ तथा मनोवैज्ञानिक या मनोचिकित्सक से संपर्क करें। ऑटिज़्म एक प्रकार की विकास सम्बन्धी बिमारी है जिसे पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता लेकिन सही प्रशिक्षण व परामर्श से रोगी को बहुत कुछ सिखाया जा सकता है जो उसे रोज़ के कामों में उसकी देख-रेख में मदद करता है तथा शुरुआती संज्ञानात्मक या व्यवहारी हस्तक्षेप, बच्चों को स्वयं की देखभाल, सामाजिक और बातचीत कौशल के विकास में सहायता कर सकते हैं। बहुत कम आटिस्टिक बच्चे ही वयस्क होने पर आत्मनिर्भर होने में सफल हो पाते हैं। आजकल एक आत्मविमोही संस्कृति विकसित हो गयी है, जिसमें कुछ लोगों को इलाज़ पर विश्वास है और कुछ लोगों के लिये ऑटिज़्म एक विकार होने के बजाय एक स्थिति है। ऑटिज़्म से ग्रसित 70% व्यक्तियों में मानसिक मंदता पायी जाती है जिसके कारण वह एक सामान्य जीवन जीने में पूरी तरह समर्थ नहीं हो पाते परन्तु अगर मानसिक मंदता अधिक न हो तो ऑटिज़्म से ग्रसित व्यक्ति बहुत कुछ सीख पाता है। कभी-कभी बच्चों में ऐसी काबिलियत भी देखी जाती है जो सामान्य व्यक्तियों के समझ और पहुँच से दूर होती है।

विभिन्न थेरैपी

ऑटिज़्म से प्रभावित बच्चे / व्यक्ति के जीवन में गुणात्मक सुधार लाना तथा उसे आत्म निर्भर बनाना ही इलाज़ का मुख्य ध्येय होना चाहिए। इसके लिए शीघ्र हस्तक्षेप यानि अर्ली इंटरवेंशन के ज़रिये समस्या की शीघ्र अतिशीघ्र पहचान कर उसका निदान करना होगा। बिहेवियरल ऐनेलिसिस, स्ट्रक्चर्ड टीचिंग सिस्टम, डेवलपमेंटल मॉडल, स्पीच लैंग्वेज थेरैपी, सामाजिक दक्षता थैरेपी एवं आक्यूपेशनल थेरैपी की मदद से ऑटिज़्म से प्रभावित बच्चे के जीवन को काफ़ी हद तक सुधार कर उसे समाज की मुख्य धारा से जोड़ा जा सकता है। विभिन्न थेरैपी, एक्सपर्ट का मानना है कि ऑटिज़्म से प्रभावित बच्चों को थेरैपी देना केवल थेरैपिस्ट का ही दायित्व नहीं है, अपितु माता पिता की सक्रिय भागीदारी ही ऐसे बच्चों के पुनर्वास में सहायक होती है। स्ट्रक्चर्ड टीचिंग प्रोग्राम के तहत थिरैपिस्ट द्वारा दिये गए थेरैपी प्लान को अगर बच्चे के माता पिता या अभिभावक घर पर भी उसी क्रम से दोहराएं तो आशातीत परिणाम अर्जित किये जा सकते हैं।

नेशनल रिहेब्लिटेशन काउंसिल के अनुसार स्पीच थैरेपी तभी लाभकारी होगी जब बचपन से ही स्पीच थैरेपी का प्रारंभ, उसकी स्वाभाविक संप्रेषण कला को बढ़ावा मिले, बच्चे द्वारा संप्रेषण कला सीख लेने के पश्चात सीखे गये ज्ञान का सामान्यीकरण हो। साथ ही बच्चे के भाषागत् अथवा व्यवहारगत समस्या को दूर कर गुणात्मक सुधार लाने के बड़े लक्ष्य तय कर लिए जाएं। फिर उन बड़े लक्ष्यों में एक लक्ष्य को चुनकर उसे छोटे-छोटे पड़ाव में निर्धारित कर देना चाहिए। तत्पश्चात थिरैपिस्ट की मदद से योजनाबध्द तरीके से वांछित परिणाम प्राप्त होने तक थेरैपी जारी रखनी चाहिए। थेरैपी देते वक़्त कुछ बातों का ध्यान रखना अत्यावश्यक है। थेरैपी के दौरान जब बच्चा आशा के अनुरूप कार्य कर लेता है तो उसका उत्साहवर्धन करने के उद्देश्य से तुरन्त उसे कोई टोकन, टॉफी या शाबाशी अवश्य देना चाहिए। दूसरी बात बच्चे को स्पीच थेरैपी देते वक़्त टीचर एवं बच्चे का अनुपात 1:1 होना चाहिए। क्योंकि कई बार देखने में आता है कि ऑटिज़्म से प्रभावित बच्चे को अन्य समस्याओं जैसे बधिरता अंधत्व, सेरेब्रल पालसी (प्रमस्तिष्क पक्षापात) या फिर मानसिक मंदता जैसे एक या एक से अधिक समस्याओं से भी जूझना पड़ता है। ऐसे में ऑटिज़्म के साथ जुड़ी अन्य समस्याओं को भी ध्यान में रखकर स्पीच थेरैपी दिया जाना चाहिए। सीखने की यह प्रक्रिया दीर्घ कालिक है। संयम, समर्पण व सतत प्रयास पर ही सफलता का दारोमदार टिका है। ऑटिज़्म से प्रभावित बच्चों में मानसिक मंदता से ग्रसित बच्चों के उलट इनका आई.क्यू. लेवल आमतौर पर सामान्य या उससे अधिक ही होता है। ऐसे बच्चे नृत्य, कला, संगीत अथवा तकनीक के क्षेत्र में काफ़ी कुशल भी हो सकते हैं।[1]

ऑटिज़्म को इंडिविजुअल विथ डिस्एबिलिटी एजुकेशन एक्ट (आई.डी.ई.ए.) के अंतर्गत लिया गया है। इस अधिनियम में ऑटिज़्म प्रभावितों की शीघ्र पहचान, परीक्षण तथा स्पीच थेरैपी की सेवाएं सम्मिलित हैं। आई.डी.ई.ए. अधिनियम 21 वर्ष तक के ऑटिज़्म प्रभावितों के शिक्षा हेतु मार्गदर्शी की भूमिका का निर्वहन करता है व साथ ही उनका हित संरक्षण भी। दिल्ली स्थित रिहैबिलिटेशन काउंसिल ऑफ इंडिया (आर.सी.आई.) ऑटिज़्म सहित अन्य विकलांगताओं से ग्रसित व्यक्तियों के पुनर्वास एवं संरक्षण कार्य का दायित्व निभाती है।

ऑटिज़्म से ग्रसित बच्चों को मदद

ऑटिज़्म से ग्रसित बच्चों को निम्नलिखित तरीकों से मदद की जा सकती है-

  1. शरीर पर दवाव बनाने के लिए बड़ी गेंद का इस्तेमाल करना।
  2. सुनने की अतिशक्ति कम करने के लिए कान पर थोड़ी देर के लिए हलकी मालिश करना।
  3. खेल-खेल में नए शब्दों का प्रयोग करें।
  4. खिलौनों के साथ खेलने का सही तरीका दिखाएँ।
  5. बारी-बारी से खेलने की आदत डालें।
  6. धीरे-धीरे खेल में लोगों की संख्या को बढ़ते जाएँ।
  7. छोटे-छोटे वाक्यों में बात करें।
  8. साधारण वाक्यों का प्रयोग करें।
  9. रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाले शब्दों को जोड़कर बोलना सिखाएँ।
  10. पहले समझना फिर बोलना सिखाएँ।
  11. यदि बच्चा बोल पा रहा है तो उसे शाबाशी दे और बार-बार बोलने के लिए प्रेरित करें।
  12. बच्चों को अपनी जरूरतों को बोलने का मौक़ा दें।
  13. यदि बच्चा बिल्कुल बोल नहीं पाए तो उसे तस्वीर की तरफ इशारा करके अपनी ज़रूरतों के बारे में बोलना सिखायें।
  14. बच्चों को घर के अलावा अन्य लोगों से नियमित रूप से मिलने का मौक़ा दें।
  15. बच्चे को तनाव मुक्त स्थानों जैसे पार्क आदि में ले जाए
  16. अन्य लोगों को बच्चों से बात करने के लिए प्रेरित करें।
  17. यदि बच्चा कोई एक व्यवहार बार-बार करता है तो उसे रोकने के लिए उसे किसी दूसरे काम में व्यस्त रखें।
  18. ग़लत व्यवहार दोहराने पर बच्चों से कुछ ऐसा करवाएँ जो उसे पसंद ना हो।
  19. यदि बच्चा कुछ देर ग़लत व्यवहार न करे तो उसे तुंरत प्रोत्साहित करें।
  20. प्रोत्साहन के लिए रंग-बिरंगी, चमकीली तथा ध्यान खींचने वाली चीजों का इस्तेमाल करें।
  21. बच्चों को अपनी शक्ति को इस्तेमाल करने के लिए उसे शारिरीक खेल के लिए प्रोत्साहित करें।
  22. अगर परेशानी ज़्यादा हो तो मनोचिकित्सक द्वारा दी गई दवाओं का प्रयोग करें।[5]

विश्व ऑटिज़्म जागरूकता दिवस

विश्व ऑटिज़्म जागरूकता दिवस (World Autism Awareness Day) हर साल 2 अप्रैल को पूरे विश्व भर में मनाया जाता है। जिसका मकसद है, लोगों को ऑटिज़्म के बारे में जागरूक करना। ऑटिज़्म एक ऐसी आजीवन रहने वाली जटिल विकासात्मक असमर्थता है, जिससे आज भारत में लगभग 20 लाख लोग प्रभावित हैं।

ऑटिज़्म से जुड़े शोध और प्रयोग

आज कई रिसर्च इंस्टीटयूट द्वारा ऑटिज़्म के कारणों व निदान पर निरन्तर शोध कार्य जारी है। ये शोध ऑटिज़्म प्रभावितों के लिए कितने लाभकारी हैं भविष्य में तय होगा।

सिर्फ़ 15 मिनट में पहचाना जाएगा ऑटिज़्म

लंदन के किंग्स कॉलेज के वैज्ञानिकों की एक टीम ने युवाओं में ऑटिज़्म की पहचान करने के लिए ब्रेन स्कैन का तरीक़ा ढूंढा है, जो मात्र 15 मिनट में ही इस बीमारी की पहचान कर लेगा। हालांकि अभी तक ऑटिज़्म की पहचान करने के लिए पीड़ित व्यक्ति के परिवार वालों और दोस्तों से ली गई व्यक्तिगत जानकारियों को ही आधार बनाया जाता है। सबसे बड़ी बात है कि इस स्कैन की प्रामाणिकता 90 प्रतिशत से भी ज़्यादा होगी। अपने इस प्रयोग में किंग्स कॉलेज के मनोचिकित्सा संस्थान के वैज्ञानिकों ने पहले एमआरआई स्कैनर के ज़रिये मस्तिष्क के कुछ भागों का चित्र लिया। इसके बाद एक भिन्न प्रकार की इमेजिंग तकनीक के सहयोग से इन स्कैन किए हुए चित्रों को त्रिआयामी (थ्रीडी) चित्रों में पुनर्निर्मित किया गया, जिसके आकार, प्रकार और बनावट का कंप्यूटर के ज़रिये आंकलन किया गया। इन जटिल प्रक्रियाओं के द्वारा ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर को स्पष्ट किया गया। हालांकि इस बारे में आलोचकों का कहना है कि इस प्रक्रिया को उपयोग में लाने के लिए विशेषज्ञों के समूह की जरूरत होगी, जो प्राप्त जानकारी की व्याख्या कर उसकी पहचान कर सकें।

5 मिनट में ब्रेन स्कैन से पता चलेगा ऑटिज़्म का

बच्चों को होने वाली बीमारी ऑटिज़्म का पता आमतौर पर काफ़ी देर बाद चलता है। इसकी वजह से इलाज़ का ज़्यादा असर नहीं हो पाता। लेकिन वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेडिसिन के वैज्ञानिकों ने मस्तिष्क की स्कैनिंग की एक ऐसी विधि खोज निकाली है जिससे बच्चों के दिमाग की परिपक्वता का पता लगाया जा सकता है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इस विधि से बच्चों की मस्तिष्क की विकृतियों (अटेंशन डेफिशीट) और ऑटिज़्म संबंधी गड़बड़ियों का समय रहते पता लगाया जा सकेगा। पांच मिनट की अवधि वाली स्कैनिंग में एमआरआई आंकड़ों का गणितीय रूप में ट्रांसफर करना शामिल है। यह न केवल मस्तिष्क की संरचना की तस्वीरें, बल्कि विभिन्न क्षेत्रों के साथ मिलकर काम करने के इसके तरीक़ों को भी ज़ाहिर करता है। वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेडिसिन में मुख्य अनुसंधानकर्ता ब्रेडले श्लेगर ने कहा कि यह विधि ऑटिज़्म पीड़ित बच्चों तथा सामान्य बच्चों की तंत्रिकाओं के विकास के संबंध में जानकारी देगी। इस विधि से बाल्यावस्था में ही मस्तिष्क की तरंगों की स्कैनिंग कर जांच की जा सकती है। शोधकर्ताओं के अनुसार, ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर से पीड़ित बच्चे अप्रभावित बच्चों की तुलना में आवाज़ को 11 मिलीसेकंड बाद पहचान पाते हैं। यही देरी ब्रेन स्कैन में पकड़ी जा सकती है।

पेशाब के परीक्षण से ऑटिज़्म का पता लगाएं

लंदन इंपीरियल कॉलेज (आईसी) के प्रोफेसर जर्मी निकोलस का कहना है कि ऑटिज़्म रोगी की सामाजिक कुशलता पर आघात पहुंचाता है। ऑटिज़्म शरीर के कई अंगों को प्रभावित करता है। इसे आसानी से देखा भी जा सकता है कि यह किस तरह संबंधित रोगी के मेटाबोलिज्म और साहस को कैसे ठेस पहुंचाता है। निकोलस ने बताया कि ऐसे तो ऑटिज़्म कई अंगों को प्रभावित करता है, पर इसका सीधा असर मानव की सामाजिक कुशलता और समझ पर होता है। अन्य व्यक्तियों से वार्तालाप करने तथा उनकी समझदारी को भी समझने में परेशानी आती है। उन्होंने बताया कि अध्ययन में यह पाया गया कि यूरिन टेस्ट से ऑटिज़्म का पहले पता लगाया जा सकता है। निकोलस ने अपने अध्ययन के बारे में बताया कि वर्तमान में बच्चों में ऑटिज़्म को आंकने की प्रक्रिया काफ़ी लंबी है। इसके लिए सामाजिक वार्तालाप, सोचन की क्षमता आदि-आदि कई प्रकार के टेस्ट किए जाते हैं। इसके बाद ऑटिज़्म का पता लगाया जाता है, पर यूरिन टेस्ट के जरिए इसे पहले ही आंका जा सकता है।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में 18 महीने से कम उम्र के बच्चों में ऑटिज़्म का पता लगाया जाना काफ़ी मुश्किल का काम है। शोधकर्ताओं ने तीन से नौ वर्ष के बच्चों को तीन वर्ग में बांटकर अपना शोध किया। इन सभी बच्चों का यूरिन टेस्ट किया गया। इनमें 39 बच्चे ऐसे थे, जिनका पहले ही ऑटिज़्म का निदान कर दिया गया, 28 ऐसे बच्चे थे, जो ऑटिज़्म से ग्रसित थे और 34 ऐसे बच्चे थे, जो ऑटिज़्म के कभी भी शिकार नहीं हुए।

जेनेटिक मिसफोल्डिंग और ऑटिज़्म में है गहरा संबंध

वैज्ञानिकों ने ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (एएसडी) यानी स्वलीनता से संबंधी मस्तिष्क में पाए जाने वाले एक मुख्य प्रोटीन में जेनेटिक मिसफोल्डिंग की पहचान की है। कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में वैज्ञानिकों के एक अंतरराष्ट्रीय दल ने पाया कि न्यूरोलिगिन-3 नामक प्रोटीन में आनुवांशिक परिवर्तन की वजह से जेनेटिक मिसफोल्डिंग हो जाती है और दूसरी अन्य विसंगतियां आ जाती हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक जेनेटिक मिसफोल्डिंग की वजह से तंत्रिकाओं के बीच असामान्य संचार होता है। ऑटिज़्म के मरीज़ों में इस प्रोटीन में आनुवांशिक परिवर्तन पाया गया है। यह शोध ‘बायोलॅजिकल केमिस्ट्री’ में प्रकाशित हुआ है।

अपने में लीन रहने के पीछे डीएनए ज़िम्मेदार

पत्रिका ‘नेचर’ में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक जो बच्चे स्वलीन होते हैं, उनके डीएनए में दुर्लभ प्रकार का उत्परिवर्तन होता है। वैज्ञानिकों के मुताबिक ऐसे बच्चों के माता-पिता के डीएनए सामान्य होते हैं और इसलिए कोई समस्या नहीं होती लेकिन वे डीएनए के कुछ हिस्से की अधिकता और कुछ की कमी के साथ जन्म लेते हैं। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि एक दिन उनका अध्ययन साधारण डीएनए टेस्ट में मदद करेगा, जिससे पहले ही बच्चों के इस गुण को पहचाना जा सकेगा। लेकिन यह कई बार ऑटिज़्म (स्वलीनता) वाले प्रत्येक बच्चे की पहचान नहीं भी कर पाएगा क्योंकि इसके लिए अन्य कारक भी ज़िम्मेदार हैं। अध्ययन बताता है कि अपने आप में लीन रहने वाले बच्चों में आनुवांशिक उत्परिवर्तन क़रीब 20 प्रतिशत सामान्य होते हैं।

चीन में डॉल्फिन से ऑटिज़्म पीड़ित बच्चों का इलाज़

चीन के एक समुद्री मनोरंजन पार्क ने चार डॉल्फिन ख़रीदी लेकिन इन्हें मनोरंजन की दृष्टि से नहीं बल्कि ऑटिज़्म (स्वलीनता) से पीड़ित बच्चों के इलाज़ के लिए ख़रीदा गया। समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक लियाओनिंग प्रांत के फुशहुन शहर के ‘रॉयल ओशन वर्ल्ड’ में जानवरों की देख-रेख करने वाले चेन रुजुन ने बताया कि इन डॉल्फिन को जापान से 738,000 डॉलर में ख़रीदा गया है। एक महीने के अनुकूलन और प्रशिक्षण के बाद युवा मरीज़ों के इलाज़ के लिए इनका इस्तेमाल शुरू कर दिया गया है। चेन कहते हैं कि, " ‘रॉयल ओशन वर्ल्ड’ 2007 से ही ऑटिज़्म पीड़ित बच्चों का इलाज़ कर रहा है। जब हमारे पास चिकित्सकों के रूप में तीन डॉल्फिनें थीं तब हम 2 से 10 वर्ष उम्र तक के 20 से ज़्यादा बच्चों का इलाज़ कर लेते थे।" उन्होंने बताया कि प्रत्येक बच्चा महीने में कम से कम 12 बार पार्क में आता है और इलाज़ के तहत डॉल्फिन के साथ खेलता है। इस इलाज़ का असर इस पर निर्भर करता है कि बच्चे ने डॉल्फिन के साथ कितना समय बिताया। पहले बच्चों का इलाज़ नि:शुल्क किया जाता था लेकिन इस इलाज़ की मांग बढ़ने के साथ अब इसके लिए प्रत्येक परिवार से प्रति माह 2000 युआन लिए जाते हैं। ग़रीब परिवारों से कम शुल्क लिया जाता है। चीन के शैनडोंग और गुआंगडोंग सहित अन्य प्रांतों के समुद्री पार्को में भी डॉल्फिन इलाज़ होता है।

ऑटिज़्म के इलाज़ में मददगार हो सकती हैं सांगबर्ड

लंदन में हुए एक नए अध्ययन से पता चला है कि एक नन्हीं सांगबर्ड स्वलीनता सहित अन्य विसंगतियों को दूर करने में मददगार हो सकती है। ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के अध्ययनकर्ता क्रिस पोंटिंग का मानन है, "गाना सीखना हर प्रकार के सीखने का एक उत्कृष्ट प्रतिमान है।" यह नन्हीं सी चिड़िया मनुष्य के सीखने और स्मृति की प्रक्रिया को समझने में महत्त्वपूर्ण हो सकती है। सांगबर्ड के नर बच्चों मानव शिशुओं की तरह ही अपने पिता के गाने की नकल सीखने से पहले तुतलाहट के साथ बोलना शुरू करते हैं। इस चिड़िया के सीखने की यह प्रक्रिया मनुष्यों में स्वलीनता, सदमे, हकलाहट और परकिंसंस जैसे विकारों को समझने में सहायक हो सकती है।

बच्चों की आवाज़ से पकड़ में आएगा ‘ऑटिज़्म’

ऑटिज़्म का जल्द पता लगाने और इसके इलाज़ का मार्ग प्रशस्त करने का दावा करते हुए वैज्ञानिकों ने पहली स्वचालित स्वर विश्लेषण व्यवस्था विकसित की है। इस पद्धति में बच्चों की आवाज़ का विश्लेषण कर उनमें रोग को शुरुआती अवस्था में पकड़ना संभव होगा। वैज्ञानिकों ने लैंग्वेज इनवार्यनमेंट एनालिसिस (लेना) उपकरण का विकास किया है। उन्होंने कहा कि ऑटिज़्म से पीड़ित बच्चे अपने हम उम्र स्वस्थ बच्चों की तुलना में अलग प्रकार से उच्चारण करते हैं। यह उपकरण बच्चों की आवाज़ को पकड़ लेता है। इस मशीन में पहले से अन्य बच्चों की आवाज़ें दर्ज होती है। पहले यह मशीन दिन भर बच्चों के आवाज़ को रिकार्ड करती है और संबंधित आंकड़े एक विशेष कंप्यूटर में दर्ज करती है जो अन्य बच्चों की ध्वनियों से इसकी तुलना करता है।

ऑटिज़्म के शिकार लोग आलिंगन से क्यों बचते हैं

वैज्ञानिकों ने मस्तिष्क में कुछ ऐसे सबूत ढूंढे हैं जिनसे यह पता चल सकेगा कि ऑटिज़्म से जुड़े नाज़ुक एक्स सिंड्रोम से ग्रसित लोग अपने माता पिता से भी गले मिलना क्यों नापसंद करते हैं। नार्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के फेनबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसीन के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि उन्होंने नाज़ुक एक्स सिंड्रोम वाली चुहिया के मस्तिष्क में संवेदी कोर्टेक्स के विकास में देरी का पता लगाया है। न्यूरोन जर्नल में उन्होंने अपनी इस कामयाबी के बारे में बताया है कि उनका अध्ययन इस बात की व्याख्या करने में मदद कर सकता है कि इससे ग्रसित लोग शारीरिक संपर्क को लेकर अत्यंत संवेदनशील क्यों होते हैं। गौरतलब है कि नाज़ुक एक्स सिंड्रोम एक्स क्रोमोजोम में जीन से पैदा होता है, जो नाज़ुक एक्स मानसिक मंदता यानी एफएमआरपी नाम के प्रोटीन बनाता है।

नवजात में पीलिया होने पर ऑटिज़्म का भी ख़तरा

जिन नवजात शिशुओं को पीलिया होता है उन्हें आगे चलकर ऑटिज़्म बीमारी हो सकती है। यह बात एक अध्ययन में सामने आई है। डेनमार्क की अरहस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने 1994 से 2004 के बीच देश में जन्मे बच्चों के बारे में अध्ययन किया। उन्होंने पाया कि जिन बच्चों का पीलिया के लिए इलाज़ किया गया था उनमें से 2.37 फीसदी बच्चे बाद में ऑटिज़्म के शिकार हुए। जबकि जिन बच्चों को पीलिया नहीं था उनमें से केवल 1.4 प्रतिशत बच्चों को ऑटिज़्म की शिकायत हुई। शोधकर्ताओं का मानना है कि पीलिया के दौरान जमा हुआ ज़हरीला बिलिरुबिन दिमाग की कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त कर देता है।

सोशल नेटवर्किंग से ऑटिज़्म

सोशल नेटवर्किंग से जहां विश्व एक छोटे गांव में तब्दील हो गया है वहीं इससे लोगों का समय भी कटता है। लेकिन यही सोशल नेटवर्किंग अगर लत में तब्दील हो जाए तो घातक साबित हो सकती है। यहां तक कि सोशल नेटवर्किंग से ऑटिज़्म का ख़तरा हो सकता है। मैरीलैंड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने 200 छात्रों पर किए गए अध्ययन के दौरान यह पाया है कि सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर ज़्यादा समय बिताने वाले युवा नकारात्मक व्यवहार के शिकार हो जाते हैं। अगर एक दिन के लिए भी वे इन वेबसाइटों से दूर रहे तो वे अत्यधिक उन्मत्त हो उठते हैं, उनमें व्यग्रता और घबराहट होने लगती है। ठीक यही लक्षण ड्रग और अल्कोहल के आदी लोगों में भी व्यसन से दूर रहने पर पाया जाता है। इन नतीजों के आधार पर लोगों का ध्यान एक बार फिर सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट के ख़तरों की तरफ दिलाया गया है। इस शोध से जुड़ी न्यूरोसाइंटिस्ट सूसन ग्रीनफील्ड ने बताया कि 2009 में कुछ ऐसी ख़बरें आई थी कि सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट हमारे शरीर और दिमाग को बुरी तरह प्रभावित करती है और हमारी एकाग्रता की क्षमता को काफ़ी कम कर देती है। इसके अलावा इससे प्रतिरोधक क्षमता भी काफ़ी कमज़ोर हो जाती है और ऑटिज़्म नाम के मनोरोग के होने की संभावना बढ़ जाती है। उनका कहना है कि सोशल नेटवर्किंग साइट की लत हमारे युवाओं में मस्तिष्क के विकसित होने की प्रक्रिया को बिगाड़ देती है। इसके अलावा मेलजोल के लिए सोशल साइट्स पर ज़्यादा वक़्त बिताने वाले युवाओं का स्वास्थ्य आमने-सामने संपर्क करने वाले युवाओं की तुलना में ज़्यादा ख़राब होता है। लेकिन इस स्टडी के आधार पर अभी तक वैज्ञानिकों ने कोई ठोस राय नहीं बनाई है।

योग से ‘ऑटिज़्म’ का इलाज़ सम्भव

ऑस्ट्रेलिया में आत्मविमोह (ऑटिज़्म) की समस्या से निपटने के लिए योग का इस्तेमाल बढ़ रहा है। इस प्राचीन भारतीय विज्ञान की उपयोगिता में विश्वास रखने वाले विशेषज्ञ का मानना है कि योग की बदौलत ऑटिज़्म के शिकार बच्चों की मानसिक सक्रियता में बदलाव लाया जा सकता है। एक गैर-लाभकारी संगठन ‘योगा इन कम्युनिटी’ (वाईआईटीसी) भी इस उद्देश्य से योग का इस्तेमाल कर रहा है। इस संगठन के मुताबिक बच्चों की मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक सेहत को सुधार कर आत्मविमोह यानी ऑटिज़्म से निपटा जा सकता है। योग को यह संगठन इन तीनों तरह की सेहत के लिए उपयोगी मानता है। सिडनी स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी द्वारा प्रकाशित एक जर्नल प्रेसिंक्ट के मुताबिक यह संगठन योग की उपयोगिता की वैज्ञानिक पुष्टि कर चुका है।

हाल ही में 33 वर्षीय स्यू व्हाइट और 28 वर्षीया केटी स्पीयर्स ने इस संगठन की स्थापना की। आस्ट्रेलिया में वैकल्पिक इलाज़ पद्घतियों की बढ़ती उपयोगिता से लोगों को योग की ओर मुड़ने की प्रेरणा मिली है। इस संगठन के योग स्टूडियो में हर रोज़ मोमबत्ती जलाई जाती है और फूलों और खुशबू से योग कक्ष के माहौल को खुशनुमा बनाया जाता है। फिर इस खुशनुमा माहौल में बच्चों से योग करवाया जाता है। स्पीयर्स ने कहा, “यह योग केंद्र मानसिक शांति की तलाश कर रहे लोगों के लिए बेहद उपयुक्त जगह है। लोग जब यहां विभिन्न मुद्राओं को आजमा लेते हैं, तब उनकी मानसिक और शारीरिक ताजगी देखते ही बनती है। ख़ासकर बच्चों के लिए योग को अधिक उपयोगी माना जा रहा है। यहाँ कई छात्र ऑटिज़्म के इलाज़ में योग की उपयोगिता का अध्ययन भी कर रहे हैं।” सूर्य नमस्कार जैसी योग मुद्राओं का ख़ास तौर पर अध्ययन किया जा रहा है। वैसे बचपन में आत्मविमोह का शिकार रहे युवकों पर भी योग का उत्साहवर्धक असर देखा जा रहा है।

कुछ अन्य शोध
  • बी.एम.सी. पीडियाट्रिक्स की रिर्पोट के मुताबिक प्रेशराइज्ड आक्सीजन चैम्बर में आटिस्टिक बच्चों को दिन में दो बार, चार हफ्ते तक रखने से 80 प्रतिशत बच्चों में सुधार के लक्षण दिखाई दिए। उनकी अतिक्रियाशीलता (हाइपर एक्टिविटी), तुनक मिज़ाजी, एवं बोलने की क्षमता का विकास हुआ। समझा जाता है कि मस्तिष्क में आक्सीजन का स्तर बढ़ने से बच्चों को फ़ायदा हुआ होगा। फ्लोरिडा, इन्टरनेशनल चाइल्ड डेवलॅपमेंट रिर्पोट ने इस पर शोध किए जाने की ज़रूरत है।
  • जापान के एक शोधकर्ता के अनुसार कम उम्र में पिता बनने वाले पुरुषों के बच्चों की तुलना में अधिक उम्र में पिता बनने वाले पुरुषों के बच्चों को स्वलीनता यानि ऑटिज़्म का ख़तरा बढ़ जाता है।
  • संगीत भी आटिस्टिक बच्चों में मददगार साबित हो सकता है। एवर्स्टन में नार्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी की प्रयोगशाला में किए गए शोध के अनुसार वाद्ययन्त्र बजाने से ब्रेनस्टेम (मस्तिष्क का निचला हिस्सा) में स्वचालित प्रक्रिया पर असर पड़ता है। कई वर्षो का संगीत प्रशिक्षण ध्वनियों से भाषा और भावनाओं को व्यक्त करने में भी सुधार हो सकता है।[1]

ऑटिज़्म पर बनी फ़िल्में और टी. वी. प्रोग्राम

  • कोई मिल गया
  • तारे ज़मीन पर
  • माई नेम इज़ ख़ान
  • अंजलि

समाचार

ऑटिज़्म के इलाज़ की जगी नई उम्मीदें

शुक्रवार, 9 सितंबर, 2011

पहली बार एक बड़ी खोज में वैज्ञानिकों को ऑटिज़्म से जुड़े दो अलग अलग जैविक तनाव का पता चला है जिनके बारे में उनका दावा है कि इससे बीमारी के प्रभावी इलाज़ का विकास हो सकेगा। इन खोजों की तुलना 1960 के दशक में हुई कैंसर के विभिन्न प्रकारों की खोजों से की जा रही है और इनसे उम्मीद जागी है कि इनसे ऑटिज़्म ग्रस्त बच्चों के संपर्क, सामाजिकरण और अन्य समस्याओं को ज़्यादा आसानी और जल्दी से निपटा जा सकेगा। कैलीफोर्निया विश्वविद्यालय के डेविस माइंड इंस्टीट्यूट के अनुसंधानकर्ताओं ने दो से ढाई साल के उम्र के क़रीब 350 शिशुओं के दिमागी विकास, अनुवाशिंक बनावट और आसपास के वातावरण का अध्ययन किया। अध्ययन के मुताबिक शिशुओं के एक समूह-जिनमें सभी लड़के थे-के दिमाग बड़े पाए गए और 18 महीने के होने के बाद ज़्यादातर में ऑटिज़्म के लक्षण पाए गए जबकि एक अन्य समूह में प्रतिरक्षा प्रणाली को सही काम करते नहीं पाया गया।

समाचार को विभिन्न स्रोतों पर पढ़ें


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 1.4 अरोरा, श्रीमती राजबाला। ऑटिज़्म: शीघ्र हस्तक्षेप जरूरी (हिन्दी) (पी.एच.पी) ग्वालियर टाइम्स। अभिगमन तिथि: 5 दिसंबर, 2010।
  2. जानें क्या है ऑटिज़्म? (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल) वेब दुनिया हिन्दी। अभिगमन तिथि: 19 फ़रवरी, 2011
  3. ऑटिज़्म (आत्मविमोह) (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल)। । अभिगमन तिथि: 5 दिसंबर, 2010।
  4. ऑटिज़्म और भ्रांतियाँ (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल) वेब दुनिया हिन्दी। अभिगमन तिथि: 19 फ़रवरी, 2011
  5. 5.0 5.1 ऑटिज़्म होने के क्या कारण है? (हिन्दी) (पी.एच.पी) ऑटिज़्म। अभिगमन तिथि: 19 फ़रवरी, 2011

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः