ककुत्स्थ  

ककुत्स्थ विकुक्षि के पुत्र थे, जो इक्ष्वाकु के पौत्र और वैवस्वत मनु के प्रपौत्र थे।[1]

  • देवासुर संग्राम में ककुत्स्थ ने वृष रूपधारी देवराज इंद्र के 'कुकुद्' अर्थात्‌ 'डील' (कूबड़) पर सवार होकर राक्षसों को पराजित किया था। इसी कारण वे ककुत्स्थ कहलाए थे।
  • ककुत्स्थ के 'अनेना' नाम के पुत्र और पौत्र 'पृथु' हुए थे।
  • हिन्दू धार्मिक ग्रंथ 'कूर्मपुराण' तथा 'मत्स्यपुराण' में इनके एक पुत्र का नाम 'सुयोधन' भी दिया गया है।
  • ककुत्स्थ नाम के एक अन्य भगीरथ के भी पुत्र थे, जिनके पुत्र प्रवृद्धि हुए। प्रवृद्ध के पुत्र शंखन और शंखन के सुदर्शन हुए।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ककुत्स्थ (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 20 फ़रवरी, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ककुत्स्थ&oldid=610054" से लिया गया