कन्नौजी बोली  

  • 'कन्नौजी' संस्कृत 'कान्यकुब्ज' इस बोली का केन्द्र है, अत: इसका नाम 'कन्नौजी' पड़ा है।
  • यह इटावा, फ़र्रुख़ाबाद, शाहजहाँपुर, कानपुर, हरदोई, पीलीभीत आदि में बोली जाती है।
  • कन्नौजी शौरसेनी अपभ्रंश से निकली है।
  • यह ब्रजभाषा के इतनी अधिक समान है कि कुछ लोग इसे ब्रजभाषा की ही उपबोली मानते हैं।
  • कन्नौजी में केवल लोक-साहित्य मिलता है जिसमें से कुछ अंश प्रकाशित भी हो चुका है।
  • उकारांतता (खातु, घर, सबु), ओकारांतता (हमारो या हमाओ), स्वार्थे प्रत्यय- इया (जिमिया, छोकरिया) तथा वा (बेटवा, बचवा), औ का अउ (कउन), बहुवचन के लिए ह वार (हम ह् वार, हम लोग) आदि इसकी कुछ मुख्य विशेषताएँ हैं।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कन्नौजी_बोली&oldid=226506" से लिया गया