कर्पूर मञ्जरी  

कर्पूर मञ्जरी में चार अंक हैं तथा यह केवल प्राकृत भाषा में रचित होने के कारण 'राट्टक' कहा जाता है।

  • यह राजशेखर की सर्वोत्कृष्ट रचना है।
  • कहा जाता है कि इसकी रचना राजशेखर ने अपनी पत्नी 'अवंतिसुन्दरी' के आग्रह पर की थी।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कर्पूर_मञ्जरी&oldid=291752" से लिया गया