कर्मधारय समास  

कर्मधारय समास (अंग्रेज़ी: Appositional Compound) वह समास है जिसमें उत्तर पद प्रधान हो तथा पूर्व पद व उत्तर पद में उपमान-उपमेय अथवा विशेषण-विशेष्य सम्बन्ध हो, वह 'कर्मधारय समास' कहलाता है। जैसे -

  1. चरणकमल - कमल के समान चरण
  2. कनकलता - कनक की-सी लता
  3. कमलनयन - कमल के समान नयन
  4. प्राणप्रिय - प्राणों के समान प्रिय
  5. चन्द्रमुख - चन्द्र के समान मुख
  6. मृगनयन - मृग के समान नयन
  7. देहलता - देह रूपी लता
  8. लालमणि - लाल है जो मणि
  9. परमानन्द - परम है जो आनन्द


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कर्मधारय_समास&oldid=513140" से लिया गया