क़लंदरिया  

क़लंदरिया ख़ानाबदोश मुस्लिम दरवेशों का एक शिथिल रूप से संगठित समूह, जो एक 'अनियमित'[1] या विपरीतगामी सूफ़ी रहस्यवादी सिलसिला है।

  • क़लंदरियाई मत शायद मध्य एशिया के मलामतियाओं से उभरा और इस पर बौद्धहिन्दू प्रभाव लक्षित होते हैं।
  • इसके अनुयायी मुस्लिम समाज के प्रतिमानों के प्रति अवहेलना के लिए कुख्यात हैं और साथ ही नशीले पदार्थों के सेवन तथा असभ्य व्यवहार के लिए भी बदनाम हैं। वे सिर, चेहरे और भौंहों को मुंडाते हैं, केवल कंबल ओढ़ते या जांघों तक लंबी ऊनी कमीज़ पहनते हैं। घुमंतू जीवन बिताते हैं और सभी प्रकार के कार्यों को क़ानूनी मानते हैं।
  • इस आंदोलन का ज़िक्र प्रथम: 11वीं सदी में ख़ुरासान में आया, फिर यह भारत, सीरिया और पश्चिमी ईरान में फैला।
  • क़लंदरिया लोग ही ऑटोमन साम्राज्य में 16वीं सदी के पूर्व हुई बग़ावतों के लिए ज़िम्मेदार थे।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. बिशर्अ
  2. भारत ज्ञानकोश, खण्ड-1 |लेखक: इंदु रामचंदानी |प्रकाशक: एंसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली और पॉप्युलर प्रकाशन, मुम्बई |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 327 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=क़लंदरिया&oldid=500002" से लिया गया