कादिरी सिलसिला  

कादिरी या कदीरिया सिलसिला की स्थापना 'सैय्यद अबुल कादि अल गिलानी' ने की थी। इनको 'पीरान-ए-पीर' (संतो के प्रधान) तथा 'पीर-ए-दस्तगीर' (मददगार संत) आदि की उपाधियाँ प्राप्त थीं।

  • भारत में इस 'संघ' या 'सिलसिले' के प्रवर्तक 'मुहम्मद गौस' थे।
  • कादिरी सिलसिले के अनुयायी गाने-बजाना पसन्द नहीं करते थे और इसके घोर विरोधी थे।
  • इस सिलसिले के अनुयायी हरे रंग की पगड़ियाँ सिर पर धारण करते थे।
  • मुग़ल बादशाह शाहजहाँ का पुत्र दारा शिकोह इस सिलसिले का अनुयायी था। दारा शिकोह 'मुल्लाशाह बदख्शी' का शिष्य था।
  • भारत में प्रारंभ में यह सिलसिला 'उच्छ' (सिंध) में सीमित था, परन्तु बाद में आगरा एवं अन्य स्थानों पर भी फैल गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कादिरी_सिलसिला&oldid=469666" से लिया गया