कीर्ति पताका  

कीर्ति पताका महाकवि विद्यापति द्वारा रचित काव्य है।

  • महाकवि विद्यापति ठाकुर ने बड़े ही चतुरता से महाराजा शिवसिंह का यशोवर्णन किया है।
  • इस ग्रन्थ की रचना दोहा और छन्द में की गयी है। कहीं-कहीं पर संस्कृत के श्लोकों का भी प्रयोग किया गया है।
  • कीर्ति पताका ग्रन्थ की खण्डित प्रति ही उपलब्ध है, जिसके बीच में 9 से 29 तक के 21 पृष्ठ अप्राप्त हैं।
  • ग्रन्थ के प्रारंभ में 'अर्द्धनारीश्वर', 'चन्द्रचूड़' शिव और गणेश की वन्दना है।
  • कीर्तिपताका ग्रन्थ के 30 वें पृष्ठ से अन्त तक शिवसिंह के युद्ध पराक्रम का वर्णन है।
  • डॉ. वीरेन्द्र श्रीवास्तव अपना वक्तव्य कुछ इस तरह लिखते हैं कि 'अत: निर्विवाद रुप से पिछले अंश को विद्यापति-विरचित कीर्तिपताका कहा जा सकता है, जो वीरगाथा के अनुरुप वीररस की औजस्विता से पूर्ण है।'[1][2]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विद्यापति-अनुशीलन एवं मूल्यांकन खण्ड-1, पृ.30
  2. विद्यापति (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 2जून, 2011।

बाहरी कड़ियाँ

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कीर्ति_पताका&oldid=312094" से लिया गया