कुंतिभोज  

कुंतिभोज पाण्डवों की माता कुंती के पालक पिता थे। कुंती के पिता राजा शूरसेन ने अपनी कन्या 'पृथा' (कुंती) को दान स्वरूप कुंतीभोज को सौंप दिया था, इसीलिए पृथा को 'कुंती' कहा गया।[1]

  • कुंतीभोज के पिता का नाम 'भीम' था और इनके दो पुत्र 'धृष्ट' तथा 'अनाधृष्ट' हुए थे।
  • 'हरिवंशपुराण' तथा 'महाभारत' आदि में कुंतिभोज की विस्तृत कथा मिलती है। 'श्रीमद्भगवद गीता' में भी कुंतिभोज का उल्लेख है।
  • कुंती के वास्तविक पिता शूर की भाँति कुंतिभोज भी यदुवंशी थे।
  • 'महाभारत' की लड़ाई में इन्होंने भी भाग लिया था।


इन्हें भी देखें: महाभारत, श्रीकृष्ण, पाण्डव एवं कौरव


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कुंतिभोज (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 24 फ़रवरी, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुंतिभोज&oldid=609580" से लिया गया