कुमारपाल चरित  

  • लगभग 1089-1173 ई. के बीच इस ग्रंथ की रचना हेमचन्द्र ने की थी।
  • 20 सर्गो में विभाजित इस ग्रंथ से गुजरात के चालुक्यवंशीय शासकों के विस्तृत इतिहास की जानकारी मिलती है।
  • बीस सर्गो में प्रथम बारह सर्ग संस्कृत भाषा में एवं अन्तिम आठ सर्ग प्राकृत भाषा में लिखे गये हैं।
  • इस ग्रंथ को द्वयाश्रय भी कहा जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुमारपाल_चरित&oldid=285874" से लिया गया