केकड़ा  

केकड़ा

केकड़ा क्रस्टेशिया वर्ग का डेकापोडा गण के छोटी पूंछ वाले जंतु होते हैं, विशेषकर बैकियूरा या असली केकड़ा, लेकिन एनोम्युरा जैसे अन्य जीव भी, जो दिखने और आदतों में इनसे मिलते-जुलते हो सकते हैं। सभी महासागरों, मीठे पानी और ज़मीन पर केकड़ों की लगभग 4,500 प्रजातियाँ पाई जाती हैं। डेकोपोडा गण के अन्य जंतुओं[1] से भिन्न केकड़े की पूंछ वक्ष या शरीर के मध्यखंड के नीचे मुडी हुई होती है। इसका ऊपरी कवच सामान्यतः चौड़ा होता है। पैरों का अगला जोड़ा पंजे या चिमटी में रूपांतरित रहता है।

विस्तार और क़िस्में

अधिकांश केकड़े समुद्र में रहते हैं; यहाँ तक कि उष्णकटिबंधीय देशों में बहुतायत में पाए जाने वाले भूमिचर केकड़े भी सामान्यतः कई बार समुद्र में जाते हैं और अपने जीवन का प्रारंभिक काल वहाँ व्यतीत करते हैं। दक्षिणी यूरोप की नदियों में पाया जाने वाला लेंटेन केकड़ा (पोटामॉन फ़्लूविएटाईल) दुनिया के अधिकांश गर्म इलाक़ों में मीठे पानी के केकड़ों की बहुतायत का एक उदाहरण है, आमतौर पर केकड़े गलफड़ों से सांस लेते हैं, जो ऊपरी खोल की बग़लों के नीचे दो छिद्रों में होते हैं, लेकिन असली भूमिचर केकड़ों में ये छिद्र बड़े होकर हवा में सांस लेने के लिए फेफड़ों की भूमिका निभाते हैं। इनके गमन का सामान्य तरीक़ा चलना या रेंगना है, और सामान्य तटीय केकड़े का दाईं या बाईं ओर सरकना आमतौर पर इस समूह के सभी सदस्यों का लक्षण है। पार्ट्यूनिडी परिवार और कुछ अन्य परिवारों के केकड़े अपने चपटे चप्पूनुमा पैरों की मदद से निपुणतापूर्वक तैरते हैं।

हरमिट केकड़ा

हरमिट केकड़े (पैग्यूरिडी और कोएनबिटिडी) एनोम्युर केकड़ों की मशहूर जाति है, जो उदरपादीय कवचधारी प्राणियों के ख़ाली कवचों में रहते हैं और उन्हें अपने सचल आवास की तरह अपने साथ लिए चलते हैं। जैसे-जैसे केकड़े का आकार बढ़ता है, यह अपना आवास समय-समय पर बदलता रहता है। उष्णकटिबंधीय देशों में कोएनबिटिडी परिवार के हरमिट केकड़े समुद्र में जाते हैं। हिंद-प्रशांत द्वीपों पर पाया जाने वाला बड़ा लुटेरा या नारियल केकड़ा (ब्राइग्रस लेट्रो), जो इसी परिवार का सदस्य है, ने सचल आवास साथ लिए चलने की आदत छोड़ दी है और इसके उदर का ऊपरी भाग कवची पट्टिकाओं से ढका रहता है।

केकड़ा

क्रस्टेशिया वर्ग

कई अन्य क्रस्टेशिया वर्ग के प्राणियों की तरह केकड़े भी सर्वभक्षी होते हैं और सफ़ाईकर्मियों की भूमिका निभाते हैं, लेकिन कई केकड़े शिकार करते हैं और कुछ शाकाहारी होते है। हालांकि कोई भी केकड़ा वस्तुतः परजीवी नहीं होता है, कुछ केकड़े अन्य प्राणियों के साथ मेल-मिलाप से रहते है। इसका उदाहरण छोटा पी केकड़ा (पिनाथेरेडी) है, जो सीपियों और अन्य कई कवचधारी प्राणियों के खोलों, कीट नलियों और अकिनोडर्म प्राणियो के भीतर रहता हुआ अपने मेज़बान के भोजन में हिस्सेदारी करता है; एक अन्य उदाहरण कोरल-गॉल केकड़ा (हैप्लोकार्सिनिडी) है, जो कुछ मूंगों के बढ़ने वाले किनारों को इस प्रकार छोड़ता है कि वे यों बढ़े कि मादा उसमें क़ैद हो जाई। धीमी गति से चलने वाले मकड़ी केकड़ों (मजिडी) में से कई अपने खोल को समुद्री घास, स्पंज और उद्भिद प्राणियों से ढक लेते हैं और सफल छद्मवेश बना लेते हैं। जापान का विशालकाय केकड़ा (मैक्रोचेरिया कैंफेरी) और तस्मानियाई केकड़ा दो सबसे बड़े ज्ञात क्रस्टेशियन प्राणी हैं। जापानी केकड़े के फैले हुए पैरों की नोक से ऊपरी नोक तक की लंबाई चार मीटर तक हो सकती है। तस्मानियाई केकड़ा, जिसका वज़न 9 किग्रा से अधिक हो सकता है, के पंजे छोटे और सुदृढ़ होते हैं; इनमें से बड़े वयस्क की लंबाई 43 सेमी हो सकती है; किसी और बड़े नमूने का शरीर या ऊपरी कवच 46 सेमी का हो सकता हैं। दूसरी ओर काफ़ी छोटे केकड़े पाए जाते हैं, जो ऊपरी वयस्क होने पर भी एक या दो सेमी लंबे होते हैं।

केकड़ा

अधिकांश क्रस्टेशियन प्राणियों की तरह लगभग सभी केकड़ों में अंडों से निकलने वाले बच्चे अपने माता-पिता से काफ़ी अलग दिखते हैं। लार्वा चरण में, जिसे जोइआ भी कहते हैं, यह एक सूक्ष्म पारदर्शी पादाहित गोल शरीर वाला प्राणी होता है, जो समुद्र की सतह पर तैरता रहता है। कई बार त्वचा छोड़ने के बाद बढ़ता हुआ केकड़ा मेगालॉप्स चरण से गुज़रता है, जिसमें शरीर और पैर केकड़ों की भांति हो जाते हैं, लेकिन उदर काफ़ी बड़ा होता है और मुड़ा हुआ नहीं होता} एक बार और आकार बदलने के बाद यह जंतु वयस्कों के समान आकार ग्रहण कर लेता है। कई केकड़े, विशेषकर मीठे पानी में पाए जाने वाले, इस रूपांतरण से नहीं गुज़रते, बल्कि सीधे वयस्क के लघु रूप में ही बाहर आते हैं।

आर्थिक महत्त्व

खाद्य पदार्थ के रूप में कई केकड़ों की मांग बहुत ज्यादा है। इनमें सबसे महत्त्वपूर्ण और बहुमूल्य खाद्य केकड़े ब्रिटिश और यूरोपीय तट के केकड़े (कैंसर पैग्यूरस), उत्तरी अमेरिका में अटलांटिक तट के नीले केकड़े (कैलिनेक्टेस सैपिडस) और प्रशांत तट के डंगेनेस केकड़े (कैंसर मैगिस्टर) है। हिंद-प्रशांत क्षेत्र में तैरने वाले केकड़े, साइला और पॉर्ट्यूनस, जो अमेरिकी नीले केकड़े से संबंधित हैं, समुद्री खाद्य पदार्थ के सबसे महत्त्वपूर्ण स्रोत हैं। एनोम्पूरा श्रेणी के लिथोडिड (शाब्दिक अर्थ, पत्थर) केकड़े वाणिज्यिक दृष्टि से मूल्यवान हैं, जिनमें जापान से परे बेरिंग सागर में अलास्का के जलीय क्षेत्र में पाया जाने वाला तथाकथित किंग केकड़ा (पेरालिथोडेस कैम्टशैटिका) सबसे महत्त्वपूर्ण है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. उदाहरणार्थ, झींगा, लॉबस्टर, क्रेफ़िश

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=केकड़ा&oldid=616407" से लिया गया