कैकसी  

  • कैकसी रावण की माँ का नाम था।
  • लंका में सेना सहित राम के आगमन का समाचार जानकर वृद्धा कैकसी ने रावण को समझाने का पर्याप्त प्रयत्न किया कि वह सीता-हरण के कारण राम जैसे सशक्त व्यक्ति को शत्रु बनाकर अपनी मृत्यु को आमन्त्रित कर रहा है, पर रावण नहीं माना। [1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. बाल्मीकि रामायण, युद्ध कांड, सर्ग 34, श्लोक 20-25

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कैकसी&oldid=593764" से लिया गया