कोष्ठक चिह्न  

कोष्ठक '()' के भीतर मुख्यत: उस सामग्री को रखते है; जैसे- क्रिया के भेदों (सकर्मक और अकर्मक) के उदाहरण दीजिए।

  • किसी कठिन शब्द को स्पष्ट करने के लिए; जैसे-आप की सामर्थ्य (शक्ति) को मैं जानता हूँ।
  • नाटक में अभिनय आदि प्रकट करने हेतु; जैसे-मेघनाद- (कुछ आगे बढ़ कर) लक्ष्मण यदि सामर्थ्य है तो सामने आओ।
  • विषय, विभाग सूचक अंकों अथवा अक्षरों को प्रकट करने के लिए; जैसे- संज्ञा के तीन भेद (व्यक्तिवाचक, जातिवाचक और भाववाचक) हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कोष्ठक_चिह्न&oldid=287626" से लिया गया