ख़ालसा संगत  

ख़ालसा संगत का अर्थ सिक्खों की सभा से लिया जाता है। संगत[1] को समान्यत: साध-संगत[2] कहा जाता है, और इस प्रकार इसमें पवित्रता निहित है।

चुनाव

प्रत्येक गुरुद्वारे में संगत अपने प्रशासी निकाय का चुनाव करता है और मतदान द्वारा निर्णय किए जाते हैं। नियमत: महिलाएँ बातचीत या कार्यवाही में हिस्सा नहीं ले सकती हैं। अमृतसर में 'शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति', सिक्ख धर्म का सर्वोच्च प्रशासी निकाय है।

भिन्न मतावलंबी

सिक्ख धर्म के पहले भिन्न मतावलंबी, जिन्हें उदासी कहा जाता है, नामक के बड़े बेटे श्रीचंद के अनुयायी थे। यह पंथ तपश्चर्या की ओर प्रवृत्त हो गया और बाद में इसने गुरुद्धारों में महंतों की नियुक्ति की। 1925 में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधन समिति ने इनका नियंत्रण समाप्त कर दिया। हर राय[3] द्वारा छोटे पुत्र हरि किशन [4] को उत्तराधिकारी बनाए जाने पर, बड़े बेटे राम राय के अनुयायी अलग हो गए और वे 'राम रैया' कहलाने लगे। उन्होंने उत्तरांचल राज्य के देहरादून में मुख्यालय स्थापित किया। जो ख़ालसा मानते थे कि जीवित गुरुओं की परंपरा गोबिंद सिंह के साथ समाप्त नहीं हुई है, उन्होंने जीवित गुरु की परंपरा को बनाए रखा। इनमें से बंदाई ख़ालसा [5] का समापन हो गया है, लेकिन नामधारी और निरंकारी अब भी जीवित गुरुओं की पूजा करते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. सभा
  2. पवित्र लोगों की सभा
  3. सातवें गुरु
  4. आठवें गुरु
  5. बंदा बहादुर के अनुयायी

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ख़ालसा_संगत&oldid=503805" से लिया गया